हिमाचल में ड्रग्स के खिलाफ कोई बात क्यों नहीं? डॉ पायल तडवी की मौत पर मीडिया क्यों चुप थी: उर्मिला मातोंडकर

BY- FIRE TIMES TEAM

उर्मिला मातोंडकर ने मुंबई पर टिप्पणी और बॉलीवुड में कथित नशीली दवाओं (ड्रग्स) को लेकर चल रहे विवाद पर कंगना रनौत को खरी खोटी सुनाई।

पीड़िता और महिला कार्ड का अनावश्यक रूप से इस्तेमाल करते हुए कंगना पर आरोप लगाते हुए, उर्मिला ने कंगना को अपने गृह राज्य हिमाचल प्रदेश से नशीली दवाओं के खिलाफ लड़ाई शुरू करने की सलाह दी।

उर्मिला मातोंडकर ने कहा, “पूरा देश ड्रग्स के खतरे का सामना कर रहा है। क्या उन्हें (कंगना) पता है कि हिमाचल में ड्रग्स की उत्पत्ति होती है? उन्हें अपने राज्य से शुरुआत करनी चाहिए।”

ड्रग नेक्सस को उजागर करने के दावे पर कंगना पर हमला करते हुए उर्मिला ने कहा, “करदाताओं के पैसे से वाई-सुरक्षा लेने वाली इस महिला ने पुलिस को ड्रग नेक्सस के बारे में जानकारी क्यों नहीं दी?”

उर्मिला ने कहा कि कंगना ने उन चीजों के बारे में बेतुके बयान दिए, जो उनके दिल के बहुत करीब हैं – मुंबई और बॉलीवुड।

उन्होंने कहा, “इसमें कोई संदेह नहीं है कि मुंबई सभी के लिए है। जिसने भी शहर से प्यार किया है यह उनका है। शहर की एक बेटी के रूप में, मैं इसके खिलाफ कोई भी अपमानजनक टिप्पणी कभी बर्दाश्त नहीं करूंगी। जब आप इस तरह की टिप्पणी करते हैं। आप न केवल शहर, बल्कि राज्य के लोगों का अपमान कर रहे हैं।”

उर्मिला ने कहा, “अगर कोई व्यक्ति हर समय चिल्लाता है, तो इसका मतलब यह नहीं है कि वह व्यक्ति सच बोल रहा है। कुछ लोग हर समय पीड़ित कार्ड खेलते हैं और अगर वह विफल होते हैं, तो वे महिला कार्ड खेलते हैं।”

अभिनेत्री और आरएस सांसद जया बच्चन के खिलाफ कंगना के बयानों पर प्रतिक्रिया देते हुए उर्मिला ने कहा कि संस्कारी परिवार का कोई भी व्यक्ति जया बच्चन के कद के बारे में ऐसी बातें नहीं करेगा।

हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि वह कंगना के पाली हिल कार्यालय के बीएमसी द्वारा विध्वंस की कार्रवाई से सहमत नहीं है।

इस मुद्दे पर बॉलीवुड चुप क्यों था, इस सवाल का जवाब देते हुए उर्मिला ने कहा कि आज के परिदृश्य में किसी को बोलने की हिम्मत नहीं है।

उन्होंने कहा, “बॉलीवुड एक कमजोर स्थिति में काम कर रहा है। लोगों को लगता है कि अगर वे बोलते हैं तो उन्हें समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जब लोग लगातार डर में रहते हैं तो वे सवाल नहीं पूछते हैं।”

सुशांत सिंह राजपूत मामले के राजनीतिकरण पर, उर्मिला ने सवाल किया कि डॉ पायल तडवी की आत्महत्या पर मीडिया और लोग क्यों चुप थे जिन्होंने कथित रूप से जातिवाद का सामना करने के बाद आत्महत्या कर ली थी?

यह भी पढ़ें- सुशांत सिंह राजपूत और बिहार विधानसभा चुनाव

About Admin