लखीमपुर में निवेन्द्र मिश्र के परिजनों से मिलते हुए ( फोटोः ट्विटर)

आप सांसद को यूपी पुलिस ने लिया हिरासत में , हाल ही में यूपी में कोरोना किट खरीद में किया था भ्रष्टाचार का दावा

BY – FIRE TIMES TEAM

दिल्ली के बाद आम आदमी पार्टी ने यूपी में भी पार्टी संगठन को मजबूत करना शुरू कर दिया है। जिसके लिए आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कुछ दिनों पहले ही प्रदेश के जिलों का दौरा शुरू किया था। और सत्तारूढ़ पार्टी पर आरोप लगाया था कि वह एक जातिवादी सरकार की तरह काम कर रही है।

इसी क्रम में राज्यसभा सांसद लखीमपुर खीरी में तीन बार के विधायक रहे निवेन्द्र मिश्रा के परिजनों से मिलकर वापस आ रहे थे। तभी यूपी पुलिस ने उन्हें रोककर बिना कोई कारण बताए अटरिया सीतापुर के गेस्ट हाउस में डिटेन कर दिया। इसकी जानकारी ग्रेटर कैलाश से आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने दी।

दरअसल, लखीमपुर खीरी के पलिया विधानसभा से तीन बार के विधायक निवेन्द्र मिश्र की कुछ दबंगों ने उनके घर पहुंचकर पीट-पीटकर हत्या कर दी। इतना ही नहीं दबंगों ने पूर्व विधायक के बेटे को भी बुरी तरह पीटा। जिसकी हालत गंभीर बनी हुई है। इसी घटना के बाद सोमवार को आप सांसद विधायक के परिजनों से मिलकर वापस आ रहे थे।

आपको बता दें कि इससे पहले भी एक नाबालिक बच्ची के बलात्कार के बाद संजय सिंह लखीमपुर खीरी का दौरा कर चुके हैं। इसके अलांवा उनकी पार्टी प्रदेश में एक सर्वे कर रही थी। जिसे कथित रूप से यूपी सरकार द्वारा रोक दिया गया।

यह भी पढ़ेंः नहीं रूक रहा यूपी में अपराध, लखीमपुर में 13 वर्षीय नाबालिग की रेप के बाद हत्या, जीभ कटी और आँखें निकली हुईं थी

लखनऊ में आप पार्टी के कार्यालय को लेकर भी पिछले कुछ समय तक बवाल मचता रहा और आखिरकार उस पर ताला लग गया। और संजय सिंह पर कई मुकदमें भी दर्ज हुए।

आप विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा कि, “संजय सिंह यूपी में हो रहे अत्याचारों के खिलाफ समाज के लिए आवाज उठा रहे हैं, उनकी आवाज दबाने के लिए यूपी सरकार उनपर मुकदमें दर्ज कर रही है। मैं योगी सरकार से कहना चाहूंगा कि इन गीदड़ भभकियों से हम डरने वाले नहीं हैं। आम आदमी पार्टी जनता की आवाज उठाती रहेगी।”

एक के बाद एक मुकदमें झेल रहे दिल्ली से राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने सुल्तानपुर में कोरोना महामारी के दौर में चिकित्सा उपकरणों की खरीद में भारी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। इसके अलांवा उन्होंने यूपी के अन्य जिलों में भी इस तरह के भ्रष्टाचार को योगी सरकार पर जनता के पैसों का दुरूपयोग करने का भी आरोप लगाया।

इस भ्रष्टाचार की जांच के लिए उन्होंने सीबीआई जांच की मांग की है। इसके लिए उन्होंने सीबीआई को एक पत्र भी लिखा है। सुल्तानपुर के साथ-साथ झांसी में भी साक्ष्यों के माध्यम से इस मुद्दे को उठाया। इस मामले को वे संसद में भी उठाने की बात कह चुके हैं।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.