BJP नेता के घर के बाहर गोबर डालने वाले किसानों पर हो गया हत्या का प्रयास का मामला

 BY- FIRE TIMES TEAM

पंजाब में किसानों के एक समूह ने विरोध जताने के लिए बीजेपी के पूर्व मंत्री के घर में गोबर फेंक दिया था। इसको लेकर अब उन किसानों पर हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।

किसानों पंजाब के पूर्व मंत्री टिकशान सूद के आवास के सामने गोबर से भरी एक ट्रॉली को उतार दिया था। इसको लेकर ‘हत्या का प्रयास’ और अन्य आरोपों के तहत होशियारपुर पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की है। मामले की जांच के लिए चार सदस्यीय विशेष जांच दल (SIT) का गठन किया गया है।

भारती किसान यूनियन के नेताओं ने रविवार को मांग की कि इस मामले को खत्म कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि यदि मामला खत्म नहीं किया गया तो 7 जनवरी को जालंधर की सड़कों को जाम किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि होशियारपुर की घटना को दोहराया जाएगा यदि उनकी मांग सरकार द्वारा स्वीकार नहीं की जाती है।

प्राथमिकी में शिकायतकर्ता सुरिंदर पाल भट्टी, जिला भाजपा सचिव और पूर्व मंत्री के एक परिचित ने कहा कि वह 1 जनवरी को सूद का स्वागत करने जा रहे थे जब एक ट्रैक्टर ट्रॉली से गोबर को सूद के घर में डाला गया।

उन्होंने कहा कि एक हाइड्रोलिक ट्राली को घर के अंदर ले जाकर गोबर फेंका गया। उन्होंने आगे दावा किया कि उन्होंने सूद पर हमला करने की कोशिश की। लेकिन वहां मौजूद लोगों ने उन्हें बचा लिया। भट्टी ने अपनी शिकायत में कहा कि ट्रैक्टर चालक ने उसके और उसके दोस्त के ऊपर ट्रैक्टर चलाने की कोशिश की।

आपको बता दें कि प्रदर्शनकारियों ने कथित तौर पर गाय के गोबर को इसलिये फेंक दिया था क्योंकि वे सूद द्वारा की गई एक टिप्पणी पर नाराज थे।

बीजेपी के पूर्व मंत्री ने कथित तौर पर कहा था कि सिंघू बॉर्डर पर विरोध करने वाले अधिकांश किसान खेत कानूनों के बारे में जागरूक नहीं हैं और पिकनिक मनाने जा रहे हैं।

होशियारपुर के एसएसपी नवजोत सिंह महल ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया था कि अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ धारा 452 (घर में अत्याचार) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत मामला दर्ज किया गया था।

हालांकि एफआईआर की एक कॉपी देखने से पता चलता है कि आईपीसी की छह धाराओं- धारा 307 (हत्या की कोशिश), 452 (बिना अनुमति घर में घुसना), 506 (आपराधिक धमकी), 323 (जान-बूझकर किसी को चोट पहुंचाना), 148 (दंगा) और धारा 149 (गैरकानूनी तरीके से जमा होना) के तहत केस दर्ज किया गया है

कुछ प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि ट्रॉली सूद के घर के परिसर में नहीं गई थी। किसानों ने गोबर को उठाकर उनके घर के अंदर गो फेंक दिया था। उन्होंने यह भी कहा कि किसी ने किसी पर हमला नहीं किया।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.