‘मारो जवान, मारो किसान’, विवादास्पद कृषि बिल पर एम मल्लिकार्जुन खड़गे का बयान

BY- FIRE TIMES TEAM

संसद में विवादास्पद कृषि बिलों के पारित होने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक बयान जारी करते हुए, कांग्रेस के दिग्गज नेता एम मल्लिकार्जुन खड़गे ने शुक्रवार को कहा कि मोदी देश के दूसरे प्रधानमंत्री के नक्शेकदम पर चलने के बजाय मारो जवान किसान में विश्वास करते हैं।

देश के दूसरे प्रधानमंत्री दिवंगत लालबहादुर शास्त्री ने 1965 में दिल्ली में एक प्रसिद्ध नारा दिया था – जय जवान जय किसान

यहां कर्नाटक कांग्रेस भवन में महात्मा गांधी और दिवंगत प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की जयंती के उपलक्ष्य में कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद बोलते हुए, खड़गे ने आरोप लगाया कि मोदी की नीतियां – विमुद्रिकरण, जीएसटी का जल्द क्रियान्वयन, या तीन कृषि बिल का पारित होना कुछ भी नहीं हैं, लेकिन इनका भविष्य में प्रतिध्वनित होगा कि मारो जवान, मारो किसान।

उन्होंने कहा, “मोदी को हमारे देश के इतिहास को पढ़ना चाहिए। कम से कम उन्हें चंपारण सत्याग्रह जरूर पढ़ना चाहिए। इस सत्याग्रह में वे किसान थे जो महात्मा गांधी के पीछे खड़े थे और इस सत्याग्रह ने पूरे स्वतंत्रता संग्राम का चेहरा ही बदल दिया था।”

उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए खड़गे ने कहा कि देश में दलितों को उनकी राजनीतिक आजादी मिली है लेकिन वे सामाजिक स्वतंत्रता हासिल करने से अभी बहुत दूर हैं।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में दलितों के साथ कैसा बर्ताव किया जा रहा है यह आजकल सबको दिखाई दे रहा है।

खड़गे ने यह भी सवाल किया कि उत्तर प्रदेश पुलिस कांग्रेस नेताओं को किसीसे मिलने से कैसे मना सकती है?

उन्होंने आरोप लगाते हुए कब, “हमारे नेता प्रियंका गांधी और राहुल गांधी सबसे शांतिपूर्ण तरीके से हाथरस जा रहे थे। वे बार-बार कह रहे थे कि वे अकेले चलेंगे, लेकिन पुलिस ने उनकी बात सुनने के बजाय उनके साथ हाथापाई की। यह सत्ता की हनक का एक स्पष्ट मामला है।”

यह भी पढ़ें- यूपीः 4 अक्टूबर को सपा प्रमुख अखिलेश यादव भी जायेंगे हाथरस, इस समय हैं लंदन में

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.