क्या भारत में फेसबुक बीजेपी और आरएसएस के नियंत्रण में है ?

BY – FIRE TIMES TEAM

भारत में सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक की नीति निर्देशक ( इंडिया, साउथ एशिया और सेन्ट्रल एशिया ) अंखी दास के खिलाफ छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक एफआईआर दर्ज कराई गई है। यह एफआईआर पत्रकार आवेश तिवारी की शिकायत पर दर्ज की गई है।

इससे पहले अंखी दास ने भी पत्रकार आवेश तिवारी के खिलाफ दिल्ली पुलिस के पास एक शिकायत दर्ज कराई कि उन्हें रेप और जान से मारने की धमकियां मिल रहीं हैं। उन्होंने अपने और अपने परिवार की सुरक्षा की भी मांग की है।

शिकायतकर्ता ने फेसबुक अधिकारी समेत दो और लोगों पर आरोप लगाया है कि जान से मारने की धमकी झूठी है जिसके लिए वे मानहानि का दावा करते हैं। इसके अलांवा लोकसभा चुनाव के दौरान सत्तारूढ़ पार्टी को फायदा पहुंचाने के लिए फेसबुक पर हेट स्पीच प्रसारित करने का आरोप लगाया।

क्या है पूरा मामला –

दरअसल 14 अगस्त को अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल में छपे एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि तेलंगाना के विधायक टी. राजा सिंह के द्वारा एक फेसबुक पोस्ट की गई थी। जिसमें लिखा था कि रोहिंग्या मुसलमानों को गोली मार देनी चाहिए। उन्हें देशद्रोही भी करार दे देना चाहिए। इस तरह के भड़काऊं पोस्ट को फेसबुक ने सामाजिक तौर पर आपत्तिजनक और अनैतिक भी माना। जिससे अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर दंगे भड़क सकते हैं।

अंखी दास पर आरोप है कि उन्होंने फेसबुक पर इस तरह की पोस्ट पर की जाने वाली कार्रवाई को अंजाम नहीं दिया। बल्कि उनके और उन जैसे कुछ और हिन्दूवादी नेताओं के फेसबुक एकाउंट चलने दिया, और न ही अपनी टीम को कोई एक्शन लेने दिया। उन्होंने बीजेपी नेताओं पर कार्रवाई करने से भारत में फेसबुक कारोबार को नुकसान पहुंचने की आशंका जताई।

इस मसले पर भाजपा और कांग्रेस में सियासी रार शुरू हो गया है। कांग्रेस का आरोप है कि फेसबुक-व्हाट्स ऐप पर बीजेपी और आरएसएस का नियंत्रण है। इसका जवाब देते हुए बीजेपी के केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कैम्ब्रिज एनलिटिका का मामला उठाया। लेकिन उन्हें शायद याद नहीं कि कैम्ब्रिज एनालिटिका में कांग्रेस के साथ-साथ बीजेपी के लाेगों के नाम भी इस लिस्ट में थे।

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.