पुलिस वालों ने मेरे पति का इस्तेमाल किया और फिर उन्हें मार डाला: विकास दुबे की पत्नी

BY- FIRE TIMES TEAM

उत्तर प्रदेश के कुख्यात गैंगस्टर विकास दुबे को पुलिस मुठभेड़ में मारे जाने के बारह दिन बाद, उनकी पत्नी ऋचा दुबे ने न्यायिक प्रणाली में विश्वास जताया है।

ऋचा दुबे ने कहा कि उन्हें अपने पति के लिए न्याय मिलने का भरोसा है, जिसे पुलिस द्वारा पहले इस्तेमाल किया गया और फिर मार डाला गया

ऋचा ने कहा कि महामारी के कारण लॉक डाउन के दौरान, कई बार पुलिसकर्मी उनके बिक्रू गाँव के निवास पर दोपहर और रात का भोजन किया करते थे और उनमें से कई रात भर रुक भी जाया करते थे।

उन्होंने कहा, “पुलिस ने उसका इस्तेमाल किया और फिर उसे मार दिया। मुझे संविधान पर पूरा भरोसा है और न्याय होगा।”

एक स्थानीय दैनिक को दिए एक साक्षात्कार में, ऋचा ने कहा कि बिक्रू की घटना की रात जिसमें आठ पुलिसकर्मी विकास और उसके गिरोह द्वारा घात लगाकर मारे गए थे, उसे 3 जुलाई को दोपहर 2 बजे के आसपास अपने पति का फोन आया।

ऋचा ने बताया, “उन्होंने मुझे अपने लखनऊ घर से तुरंत भागने के लिए कहा क्योंकि बिक्रू में कई लोग मारे गए थे। मैं तब तक भागती रही जब तक मुझे एक दोस्त की जगह पर आश्रय नहीं मिला। यह आखिरी बार था, मैंने उससे बात की थी और उसके बाद मुझे मीडिया रिपोर्टों से अपडेट मिला।”

हालाँकि, ऋचा ने यह बताने से इनकार कर दिया कि उसने कहाँ शरण ली थी।

ऋचा ने कहा कि उनके पति उतने निर्मम नहीं थे जितना मीडिया में बताया जा रहा है।

ऋचा ने बताया कि उसका पति एक अपराधी हो सकता है, लेकिन एक देखभाल करने वाला पति और एक पिता था। वह अपने दो बच्चों से प्यार करता था। हर महीने हमें खर्च के रूप में 40,000 रुपये मिलते थे। मेरा बड़ा बेटा शांतनु रूस में मेडिसिन की पढ़ाई कर रहा है। और मेरे छोटे बेटे ने अपनी कक्षा 12 की परीक्षा में 90 प्रतिशत अंक प्राप्त किए।

विकास की पत्नी ने कहा, “मुझे नहीं पता कि उस रात बिकरू में क्या हुआ था। मेरा पति मर चुका है लेकिन मेरी उम्मीदें अभी भी ज़िंदा हैं।”

ऋचा ने कहा कि विकास दुबे उनके भाई राजू निगम के अच्छे दोस्त थे। “मेरी उनसे 1990 में मुलाकात की और यह मेरा भाई था, जिसने हमारी शादी करवाई।”

उसने कहा कि विकास अपने गांव में विवादों को हल करता था और लोग अपनी समस्याओं के साथ उसके पास आते थे।

ऋचा ने कहा, “उनका फैसला ही बिकरू में अंतिम शब्द होता था।”

ऋचा ने आगे कहा कि अपने आपराधिक प्रोफ़ाइल के कारण, दुबे ने 2004 में लखनऊ में एक घर बनाने का फैसला किया था, जहां बच्चे स्थानीय राजनीति से दूर रहकर पढ़ाई कर सकते थे।

ऋचा ने कहा, “वह चाहता था कि वे पढ़ाई करें और बेहतर जीवन व्यतीत करें।”

ऋचा ने अपनी सास सरला देवी के साथ अपने असहज संबंधों की भी बात की, लेकिन कहा कि विकास दुबे हमेशा अपने माता-पिता की इच्छाओं का सम्मान करता था।

यह भी पढ़ें- विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई पुलिस पर फायरिंग; डिप्टी एसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद

यह भी पढ़ें- कानपुर ले जाते समय गैंगस्टर विकास दुबे की पुलिस मुठभेड़ में हुई मौत

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.