कोरोनावायरस: चीनी नागरिक पत्रकार को वुहान महामारी पर रिपोर्टिंग करने के लिए चार साल की जेल की सजा सुनाई गई

BY- FIRE TIMES TEAM

चीन में कोरोनावायरस जब चरम पर था उस समय वुहान में वायरस के प्रकोप को कवर करने वाली नागरिक पत्रकार को चीन ने सोमवार को चार साल की जेल की सुनाई।

पत्रकार के वकील जांग केके के अनुसार, शंघाई की एक अदालत में एक संक्षिप्त सुनवाई में झांग झान को जब महामारी का प्रकोप सामने आया था तब कथित रूप से “परेशानी भड़काने” के लिए सजा सुनाई गई है।

एक पूर्व वकील से कार्यकर्ता बनी झांग झान ने फरवरी में वुहान की यात्रा की थी। केंद्रीय शहर में महामारी और निवासियों की दुर्दशा पर 37 वर्षीय झांग झान ने लाइव रिपोर्ट को सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर व्यापक रूप से साझा किया गया था।

उनकी रिपोर्टों ने अधिकारियों को स्थिति के वास्तविकता को बताने में विफल रहने का आरोप लगाया था, जो कि आधिकारिक बयान के विपरीत था। बीजिंग ने नागरिकों की प्रतिक्रिया को अपने पक्ष में करने के लिए संक्रमण को नियंत्रित करने में “असाधारण” सफलता के लिए खुद को बधाई दी थी।

उनके वकील ने एएफपी को बताया कि अभियोजन पक्ष ने नागरिक पत्रकार के खिलाफ “जल्द सुनवाई” के दौरान अपने सबूतों को पूरी तरह से नहीं दिखाया।

उन्होंने कहा, “हमारे पास यह समझने का कोई तरीका नहीं था कि वास्तव में झांग झान पर क्या करने का आरोप लगाया गया है।”

इस बीच, उसकी कानूनी टीम ने कहा कि जून में भूख हड़ताल शुरू करने के बाद झांग सिरदर्द, चक्कर आना और पेट दर्द से पीड़ित थी।

बीबीसी के अनुसार, वकील जांग केके ने कहा, “दिन में 24 घंटे संयमित रहने से उसे बाथरूम जाने में सहायता की जरूरत होती है, और वह बेहोश जाती है। वह मनोवैज्ञानिक रूप से थका हुआ महसूस करती है, जैसे हर दिन एक पीड़ा है।”

वुहान से मुकदमे की सुनवाई के लिए अधिकारियों द्वारा हिरासत में लिए गए चार नागरिक पत्रकारों के एक समूह में झांग पहली हैं। प्रकोप के लिए चीनी सरकार की प्रतिक्रिया की आलोचना करने के लिए अब तक आठ व्हिसलब्लोअर को दंडित किया गया है।

यह भी पढ़ें- COVID-19: नए बदले हुए कोरोनावायरस के भारत में पाए गए छह मामले, सभी यूनाइटेड किंगडम से लौटे हुए लोग

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.