सफूरा जरगर को दिल्ली हाई कोर्ट से मिली जमानत

BY- FIRE TIMES TEAM

दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की 27 वर्षीय छात्रा सफूरा ज़रगर को, जिसे दिल्ली के दंगों के पीछे कथित साजिश के तहत हिरासत में लिया गया था, जमानत दे दी है।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायमूर्ति राजीव शकधर से कहा कि केंद्र केंद्र सरकार ने कहा कि उसे मानवीय आधार पर उनकी रिहाई पर कोई आपत्ति नहीं है जबतक वह उन गतिविधियों में शामिल नहीं होती हैं जिसके लिए उनकी जांच चल रही है।

न्यायाधीश ने जामिया छात्रा को उन गतिविधियों में शामिल नहीं होने का निर्देश दिया जो उनके खिलाफ जांच में बाधा बन सकती हैं।

शकधर ने कहा कि उसे दिल्ली छोड़ने से पहले संबंधित अदालत की अनुमति लेनी होगी।

30 वर्षीय सफूरा जरगर, जो पांच महीने की गर्भवती है, को 10,000 रुपये के निजी बांड को प्रस्तुत करने और 15 दिनों में कम से कम एक बार फोन पर जांच अधिकारी से संपर्क करने का निर्देश दिया गया है।

जरगर, जो जामिया समन्वय समिति के मीडिया समन्वयक हैं, के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था।

अभियोजन पक्ष ने आरोप लगाया है कि उसने 23 फरवरी को एक “भड़काऊ भाषण” दिया, जिसके कारण उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा और दंगा हुआ, जिससे कम से कम 53 लोग मारे गए और सैकड़ों घायल हो गए।

जरगर की ओर से पेश वकील नित्या रामाकृष्णन ने कहा कि उन्हें अपने डॉक्टर से सलाह लेने के लिए फरीदाबाद जाना पड़ सकता है।

जरगर की जमानत अर्जी खारिज होने के बाद उसने अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश, पटियाल हाउस कोर्ट के 4 जून के आदेश को दिल्ली HC के समक्ष चुनौती दी थी।

अपनी जमानत अर्जी में, उसने तर्क दिया कि रिकॉर्ड पर उपलब्ध सामग्री से यह साबित नहीं होता है कि वह किसी भी तरह की हिंसा के लिए जिम्मेदार है।

यह चौथी बार था जब उसके वकीलों ने अदालत में उसकी जमानत के लिए याचिका दी थी।

यह भी पढ़ें- दिल्ली हिंसा: पुलिस की कार्यवाई एकतरफा, कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को लगाई फटकार

यह भी पढ़ें- सफूरा ज़रगर, कफील खान, शरजील इमाम जेल में हैं, सांप्रदायिक हिंसा फैलाने वाले कपिल मिश्रा, अनुराग ठाकुर आज़ाद घूम रहे हैं: पूर्व जज

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.