यूपी : अखिलेश यादव के विरोध के बाद योगी सरकार ने आइसोलेशन वार्ड में मोबाइल फोन पर लगे प्रतिबन्ध को हटाया

BY – FIRE TIMES TEAM

कोरोना वायरस से जहां देश और दुनिया त्रस्त है वहीं यूपी में सियासत थमने का नाम ही नहीं ले रही। एक के बाद एक मुद्दे पर राजनीति शुरू हो गई है। आइसोलेशन वार्ड में मरीजों के मोबाइल ले जाने के प्रतिबन्ध को यूपी सरकार ने हटा लिया है। इससे पहले अखिलेश यादव ने इसका विरोध किया था।

यूपी के अस्पतालों के आइसोलेशन वार्डों में मरीजों के मोबाइल ले जाने पर रोक लगाने के आदेश पर सपा अध्यक्ष एवं यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आपत्ति जताई थी।

यह भी पढ़ेंः COVID-19: जुलाई अंत तक भारत में कोरोना वायरस के मामले चरम पर होंगे

अखिलेश यादव ने एक ट्वीट करके कहा था कि, ‘अगर मोबाइल से संक्रमण फैलता है तो आइसोलेशन वार्ड के साथ पूरे देश में इसे बैन कर देना चाहिए। वस्तुतः अस्पतालों की दुर्व्यवस्था व दुर्दशा का सच जनता तक न पहुंचे, इसीलिए ये पाबंदी है। जरूरत मोबाइल की पाबंदी की नहीं बल्कि सैनेटाइज करने की है।’ अकेले में मरीजों के लिए यही एक मानसिक सहारा है।

क्या था मामला –

शनिवार की रात लखनऊ के चिकित्सा शिक्षा महानिदेशक के के गुप्ता की ओर से एक आदेश जारी किया गया कि कोरोना वायरस के मरीजों के लिए बनाये गए L-2 और L-3 के अस्पतालों के आइसोलेशन वार्ड में अब मोबाइल प्रतिबन्धित कर दिया गया है। इसका कारण मोबाइल से वायरस का संक्रमण फैलना बताया गया।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.