Tag Archives: नजरिया

जैसे-जैसे भाजपा की उम्मीदों की चादर सिकुड़ती जा रही है, वैसे-वैसे आरएसएस की साजिशों के पाँव पसरते जा रहे हैं

 BY- बादल सरोज शून्य को शून्य में जोड़ने, एक शून्य हटा दूसरी बिठाने से संख्या नहीं बढ़ती पता नहीं क्यों पिछले तीन दिनों से सारा मीडिया सारे फ़साने से जिसका कोई रिश्ता तक नहीं, उस मोदी मंत्रिमंडल के पहले फेरबदल पर दीवाना बना हुआ है। जिस मोटा भाई के मंत्रिमण्डल …

Read More »

कॉरपोरेट ने जिस-जिस जगह पैर रखा, वहां-वहां खेती का बंटाधार हुआ

 BY- बादल सरोज  सार रूप में कहानी यह है कि आधी रात में अलाने की भैंस बीमार पड़ी। बीमारी समझ ही नहीं आ रही थी। उन्हें किसी ने बताया कि ठीक यही बीमारी गाँव के फलाने की भैंस को भी हुयी थी। वे दौड़े-दौड़े उनके पास गए और वो दवा …

Read More »

दुनिया के ऐसे इकलौते प्रधानमंत्री, जिन्होंने अपने कार्यकाल में सबसे ज्यादा ड्रेस बदली और पहनी हैं

BY-बादल सरोज 28 फरवरी को इसरो के प्रक्षेपण केंद्र से जो उपग्रह लांच किया गया है, उसमे नरेंद्र मोदी की तस्वीर भी भेजने का नमूना पेश करके इस बार तो प्रधानमंत्री की आत्ममुग्धता ने “आकाश ही सीमा है” के मुहावरे को भी पीछे छोड़ दिया। सारी सीमाओं को लांघ कर …

Read More »

जब गोलवलकर से आरएसएस तक को भले दिखावे के लिए ही सही, पल्ला झाड़ना पड़ा

आलेख : बादल सरोज पिछले सप्ताह भारत सरकार के संस्कृति मंत्री के गोलवलकर की महिमा का बखान करते हुए किये गए ट्वीट ने देश के राजनीतिक विमर्श को आधिकारिक रूप से एक नयी नीचाई तक पहुंचा दिया है। यह बखान इसलिए काबिले गौर है, क्योंकि यह मंत्री के पद पर …

Read More »

सहजानन्द सरस्वती: एक स्वामी, जिन्होंने किसान आंदोलन की दिशा-दशा बदल दी

 BY : बादल सरोज इतिहास के सबसे विराट किसान आंदोलन ने इन दिनों पूरे देश को झंकृत करके रखा हुआ है। यह किसानों के अद्भुत जागरण और असाधारण जिजीविषा के उभार का समय है। यह समय एक असामान्य सामाजिक मंथन का समय है, जिसने भारत के नागरिकों को सब कुछ …

Read More »