भाजपा को एक और बड़ा झटका, स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंत्री पद और भाजपा से किया किनारा

BY- FIRE TIMES TEAM

उत्तर प्रदेश की राजनीति में  यह कोई पहली बार नहीं हुआ है कि चुनावी माहौल में किसी मंत्री या नेता ने दल बदल लिया हो। इस बार भी चुनाव से पहले, एक और मंत्री ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार छोड़ दी है।

श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया और समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं।

इस कदम का स्वागत करते हुए, सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्विटर पर मौर्य और अन्य नेताओं का स्वागत करते हुए एक तस्वीर साझा की। उन्होंने कहा, “प्रदेश में सामाजिक न्याय और समानता के लिए संघर्ष करने वाले लोकप्रिय नेता स्वामी प्रसाद मौर्य का समाजवादी पार्टी में हार्दिक स्वागत और अभिनंदन है। सामाजिक न्याय के लिए क्रांति होगी, 2022 में बदलाव आएगा।”

मौर्य ने एक चुभने वाले त्याग पत्र में लिखा, “विभिन्न विचारधारा के बावजूद, मैंने योगी आदित्यनाथ कैबिनेट में समर्पण के साथ काम किया। लेकिन दलितों, ओबीसी, किसानों, बेरोजगारों और छोटे व्यापारियों के घोर उत्पीड़न के कारण, मैं इस्तीफा दे रहा हूं।”

पिछड़ी जाति से ताल्लुक रखने वाले मौर्य 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हुए थे। वह पडरौना से विधायक हैं। उनकी बेटी संघमित्रा मौर्य भाजपा सांसद हैं और लोकसभा में बदायूं का प्रतिनिधित्व करती हैं।

उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदान होगा- 10 फरवरी, 14, 20, 23, 27, 3 और 7 मार्च।

परिणाम 10 मार्च को पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर के चार अन्य चुनावी राज्यों के साथ घोषित किए जाएंगे।

यह भी पढ़ें- 2021 में महिलाओं के खिलाफ अपराधों की करीब 31000 शिकायतें, आधी से ज्यादा उत्तर प्रदेश से

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.