सुप्रीम कोर्ट ने विवादास्पद कृषि कानूनों को रद्द करने के आदेश को पारित करने का प्रस्ताव दिया

BY- FIRE TIMES TEAM

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के प्रदर्शन से निपटने के लिए केंद्र की आलोचना करते हुए विवादास्पद कृषि कानूनों को रद्द करने के आदेश को पारित करने का प्रस्ताव दिया।

मुख्य न्यायाधीश ने स्पष्ट किया कि न्यायालय कानूनों को रोकने के लिए प्रोत्साहित नहीं कर रहा है। “वास्तव में, हम हिंसा को रोकने और कानून व्यवस्था बनाये रखने के आदेश को पारित करने का प्रस्ताव रखते हैं।”

सुप्रीम कोर्ट ने माना कि सरकार और किसानों के बीच गतिरोध को हल करने के लिए एक समिति नियुक्त करने की आवश्यकता है।

शीर्ष अदालत ने कहा कि वह इस मामले में कृषि कानूनों और किसानों के विरोध से संबंधित मुद्दे पर आदेश पारित करेगी, पक्षकारों से पूर्व मुख्य न्यायाधीश के दो-तीन नामों का सुझाव देने के लिए कहा जाएगा जिसमें पूर्व मुख्य न्यायाधीश आरएम लोढ़ा शामिल हैं जो शीर्ष अदालत का नेतृत्व कर सकते हैं।

केंद्र की वार्ता प्रक्रिया पर निराशा व्यक्त करते हुए, पीठ ने कहा, “क्या चल रहा है? राज्य आपके कानूनों के खिलाफ विद्रोह कर रहे हैं।”

शीर्ष अदालत ने सौहार्दपूर्ण समाधान की संभावना तलाशने के लिए केंद्र को अतिरिक्त समय देने से भी इनकार कर दिया।

मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, “हम काफ समय दे चुके हैं मिस्टर अटॉर्नी जनरल, कृपया हमें धैर्य पर व्याख्यान न दें।”

पीठ में जस्टिस ए एस बोपन्ना और वी रामसुब्रमण्यन भी शामिल हैं।

शीर्ष अदालत, जो नए कृषि कानूनों के साथ-साथ दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे आंदोलन से जुड़े मुद्दों को उठा रही है, को चुनौती देने वाली दलीलों की सुनवाई कर रही थी, उसने कहा कि फिलहाल इन कृषि कानूनों को निरस्त करने की बात नहीं की जा रही है।

पीठ ने कहा, “यह एक बहुत ही नाजुक स्थिति है”। खंडपीठ ने कहा कि हमारे सामने एक भी याचिका नहीं है जो कहती है कि ये कृषि कानून फायदेमंद हैं।

सरकार के वकील और अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि अदालतों का इतिहास रहा है कि वो कानून पर रोक नहीं लगा सकती।

केके वेणुगोपाल ने कहा कि कोर्ट तब तक संसद के कानून पर रोक नहीं लगा सकती, जब तक कानून विधायी क्षमता के बिना पारित हुआ हो या फिर कानून मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करता हो।

इस पर जबाव देते हुए कोर्ट ने कहा कि हम कानून पर रोक नहीं लगा रहे हैं लेकिन उनके अमल होने पर रोक लगा रहे हैं।

About Admin

One comment

  1. Pingback: %title%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *