दूसरे राज्यों को उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने से पहले अब यूपी सरकार से लेनी होगी अनुमति: योगी आदित्यनाथ

BY- FIRE TIMES TEAM

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने रविवार को घोषणा की कि कोई भी दूसरा राज्य जो भविष्य में उत्तर प्रदेश के प्रवासी मजदूरों को रोजगार देना चाहता है, उसे पहले उत्तर प्रदेश सरकार से अनुमति लेनी होगी।

उन्होंने कहा कि कोरोनो वायरस लॉकडाउन के चलते उन्होंने देखा कि विभिन्न राज्यों द्वारा प्रवासी मजदूरों का “ठीक से ध्यान नहीं रखा गया”।

योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े संगठनों के साथ एक वीडियो कांफ्रेंस में कहा कि वे हमारे लोग हैं

उन्होंने कहा, “जो भी राज्य प्रवासी मजदूरों को वापस बुलाना चाहते हैं, उन्हें राज्य सरकार से अनुमति लेनी होगी। सभी प्रवासी मजदूरों का उनके कौशल के अनुसार पंजीकरण किया जा रहा है।”

योगी ने कहा, “प्रवासी मजदूरों को आमंत्रित करने में रुचि रखने वाले किसी भी राज्य या संस्था को उनके सामाजिक-कानूनी-मौद्रिक अधिकारों को आश्वस्त करना अनिवार्य होगा।”

इस महीने की शुरुआत में, आदित्यनाथ की अगुवाई वाली सरकार ने व्यापार और उद्योगों को श्रम कानूनों से छूट देने वाले अध्यादेश को मंजूरी दे दी थी, कुछ कानूनों को छोड़कर।

श्रम कानून में छूट कोरोनो वायरस महामारी से प्रभावित निवेश को बढ़ावा देने के लिए दी गई थी।

उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रवासी श्रमिकों के अधिकारों से संबंधित विभिन्न कारकों पर गौर करने और उनका शोषण नहीं हो यह सुनिश्चित करने के लिए एक माइग्रेशन कमीशन की स्थापना करने का भी निर्णय लिया है।

आदित्यनाथ ने कहा, “बीमा, सामाजिक सुरक्षा, पुन: रोजगार सहायता, बेरोजगारी भत्ते के प्रावधान कुछ ऐसे कारक हैं जिन पर आयोग द्वारा ध्यान दिया जाएगा।”

इसके अतिरिक्त, राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन के बीच राज्य में लौटे मजदूरों को आयोग रोजगार प्रदान करेगा।

मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया कि प्रवासी कर्मचारी कोरोनवायरस से तेजी से ठीक हो रहे थे।

उन्होंने कहा, “हम जानते हैं कि प्रवासी मजदूर जो वापस आते हैं, उनके संक्रमित होने की संभावना होती है।”

उन्होंने कहा, “वे कड़ी मेहनत करते हैं और पसीना बहाते हैं, और स्वाभाविक रूप से वे वायरस से लड़ने की क्षमता रखते हैं।

योगी आदित्यनाथ ने कहा, “यदि एक सामान्य व्यक्ति संक्रमित हो जाता है, तो उन्हें ठीक होने में 14 से 20 दिन लग जाते हैं। प्रवासी मजदूर छठे या सातवें दिन ही सही हो रहे हैं। यह हमारी ताकत है।”

उन्होंने कहा कि राज्य ने कोरोनोवायरस संकट के दौरान कई चुनौतियों का सामना किया है।

आदित्यनाथ ने कहा, “शुरुआत में जब प्रवासी श्रमिक और मजदूर राज्य में आने लगे तो उनमें से अगर किसी को पूर्वी हिस्सों में जाना है, तो यूपी रास्ते में है, यह हमारे लिए पहली चुनौती थी।”

उन्होंने कहा, “कुछ स्थानों पर, बसों से लाने के बाद उन्हें यूपी की सीमा पर छोड़ दिया गया। हमने 16,000 बसें तैनात कीं और 24 घंटों के भीतर, उन्हें उनके गृह जिलों में वापस भेजा।”

अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने कहा कि 23 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक अब तक उत्तर प्रदेश लौट आए हैं।

मुख्यमंत्री ने दावा किया कि राज्य में 18 करोड़ लोगों को पांच बार खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया है।

आदित्यनाथ ने कहा, “जैसा कि कोई भी देख सकता है, बड़ी संख्या में ऐसे मजदूर हैं, जो पलायन कर रहे हैं। यूपी में लगभग 25 लाख मजदूर काम करते हैं। एक भी पलायन नहीं कर रहा है।”

उन्होंने कहा, “वे यहां रह रहे हैं क्योंकि उन्हें मानदेय दिया गया है। 25 लाख श्रमिकों में से, 22 लाख अपनी नौकरी पर वापस आ गए हैं और उन्हें लॉक डाउन की अवधि में भुगतान भी दिया गया है।”

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सोमवार के आंकड़ों के अनुसार, उत्तर प्रदेश में कोरोनोवायरस के 6268 मामले हैं और 161 मौतें हुई हैं।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.