सुप्रीम कोर्ट ने प्रवासी मजदूरों को आश्रय और भोजन देने की याचिका को किया खारिज

BY- FIRE TIMES TEAM

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को प्रवासी मजदूरों को भोजन और आश्रय देने के लिए केंद्र को निर्देश देने की एक याचिका को खारिज कर दिया।

अदालत ने कहा कि, “अदालत के लिए यह निगरानी करना असंभव है कि कौन रोड पर चल रहा है और कौन नहीं चल रहा है।”

वकील अलख आलोक श्रीवास्तव द्वारा दायर याचिका में पिछले हफ्ते महाराष्ट्र के औरंगाबाद में कार्गो ट्रेन के नीचे आकर मारे गए 16 प्रवासी मजदूरों के मामले को उठाया गया था।

पीड़ित मध्यप्रदेश में घर वापस जाने के लिए बेताब थे और रेलवे पटरियों के रास्ते अपने जा रहे थे और रात के समय कुछ देर के लिए सो गए थे। सुबह 5 बजे लगभग एक कार्गो ट्रेन उनके ऊपर से गुजर गई जब वे सो रहे थे और सभी की मृत्यु हो गई।

जस्टिस एल नागेश्वर राव और संजय कौल की पीठ ने याचिकाकर्ता के जवाब में कहा, “जब वे रेलवे पटरियों पर सोते हैं तो कोई इसे कैसे रोक सकता है?”

अदालत ने कहा, “यह राज्यों को तय करना है। लोग चलते हैं और रुकते नहीं हैं। हम इसे कैसे रोक सकते हैं?”

अदालत ने अधिवक्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि उनकी याचिका पूर्ण रूप से अखबार की खबरों पर आधारित है।”

अदालत ने अधिवक्ताओं से कहा, “कागज में घटनाओं को पढ़ें और हर विषय के जानकार बनें। आपका ज्ञान पूरी तरह से अखबार की खबरों पर आधारित है और फिर आप चाहते हैं कि यह अदालत तय करे।”

यह भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट के जज बोले; देश का कानून और न्याय तंत्र चंद अमीरों और ताकतवर लोगों की मुट्ठी में कैद है

केंद्र के द्वारा यह दावा किये जाने के बाद कि उसने प्रवासियों के घर लौटने के लिए उचित व्यवस्था की है लेकिन कुछ मजदूर इंतजार करना नहीं चाहते हैं और उन्होंने पैदल चलना शुरू कर दिया, अदालत ने याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, “प्रवासियों को अपनी बारी का इंतजार करने के लिए धैर्य रखना चाहिए।”

उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में बुधवार शाम को दो अलग-अलग दुर्घटनाओं में चौदह प्रवासी मजदूरों के मारे जाने के एक दिन बाद सुनवाई हुई।

कोरोनवायरस के प्रसार को रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन के बाद देश भर के शहरों में कारोबार बंद होने के कारण, प्रवासियों की विशाल संख्या ने एक लंबी यात्रा शुरू की। कुछ की रास्ते में ही मौत हो गई जबकि कुछ अन्य दुर्घटनाओं में मारे गए।

पिछले महीने, केंद्र ने प्रवासी कामगारों, तीर्थयात्रियों, पर्यटकों, छात्रों और “अन्य व्यक्तियों” के आवागमन के लिए व्यवस्था की थी।

Visit Our Facebook Page Click Here

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.