राजस्थान के किसानों ने ट्रैक्टर से बैरिकेडिंग टोड़कर हरियाणा में किया प्रवेश, पुलिस ने चलाये डन्डे और आंसू गैस के गोले

BY – FIRE TIMES TEAM

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है। कृषि कानूनों के मसले पर केंद्र सरकार और 40 किसान संगठनों के बीच कल बुधवार को 7वें दौर की बातचीत हुई। बैठक में 4 में से 2 मुद्दों पर सहमति बनी। सरकार और किसान संगठनों के बीच अब अगली वार्ता 4 जनवरी को होगी।

यह भी पढ़ेंः दो मांगें पूरी, लेकिन काले कानूनों की वापसी तक संघर्ष जारी रहेगा: छत्तीसगढ़ किसान आंदोलन

 इस बीच 12 दिसंबर से धरना दे रहे राजस्थान के किसानों के एक ग्रुप ने राजस्थान-हरियाणा के बॉर्डर शाहजहांपुर में जबरन घुसने की कोशिश की। करीब एक दर्जन ट्रैक्टरों ने हरियाणा पुलिस की बैरिकेडिंग तोड़ते हुए हरियाणा में प्रवेश कर लिया।

राजस्थान और हरियाणा के बॉर्डर शाहजहांपुर में किसानों के चल रहे आंदोलन के दौरान करीब एक दर्जन ट्रैक्टरों ने हरियाणा पुलिस की बैरिकेडिंग तोड़ते हुए हरियाणा में प्रवेश कर लिया। दर्जन भर से ज्यादा किसानों के ट्रैक्टर बैरिकेडिंग को तोड़कर दिल्ली की तरफ रवाना हो गए।

किसानों और पुलिस के बीच संघर्ष के दौरान किसानों को रोकने के लिए पुलिस की ओर से आंसू गैस के गोले और पानी की बौछार की गई।हालांकि किसानों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा और आंदोलनकारी नहीं रुके।

दर्जनभर से ज्यादा ट्रैक्टर शाहजहांपुर बॉर्डर क्रॉस कर दिल्ली की ओर रवाना हो गए। किसान नेताओं का कहना है कि आधिकारिक तौर पर दिल्ली जाने की कोई घोषणा नहीं हुई है।

दूसरी ओर, दिल्ली के सिंघु बॉर्डर पर किसान पिछले 36 दिनों से टिके हुए हैं, जहां उन्हें कड़ाके की ठंड और सर्द रातों के साथ-साथ बाकी कई चीजों की समस्या का सामना भी करना पड़ रहा है, जिनमें से एक नेटवर्क की समस्या भी है। लेकिन अब सिंघु बॉर्डर पर वाई-फाई की व्यवस्था हो गई है।

सिंघु बॉर्डर पर कृषि कानूनों के विरोध में डटे किसान भी अब अपने परिजनों से बातचीत कर सकेंगे। सिंघु बॉर्डर पर अब कई जगहों पर फ्री वाई-फाई हॉटस्पॉट लगवाए गए हैं।

किसानों ने कुछ दिन पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से नेटवर्क की समस्या की शिकायत की थी। तभी केजरीवाल सरकार ने किसानों को फ्री वाई-फाई की सुविधा देने का एलान किया था।

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.