आंध्र प्रदेश: पीपीई किट और एन-95 मास्क की शिकायत करने वाले डॉक्टर के पुलिस ने हाथ बांध दिए, सड़क पर घसीटा, बेरहमी से पीटा

BY- FIRE TIMES TEAM

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में पुलिस ने शनिवार को एक डॉक्टर को जमकर पीटा, उनके हाथ-पांव बांध दिए और सड़क पर घसीटा भी।

अधिकारियों ने डॉ सुधाकर के हाथ बांध दिए और उन्हें पुलिस स्टेशन ले जाने से पहले एक ऑटोरिक्शा में भी बांध दिया।

डॉ के सुधाकर, जो निर्वस्त्र थे, उनका पुलिस कांस्टेबल द्वारा सड़क पर घसीटे जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो चुका है।

नरपतपट्टनम सरकारी अस्पताल में एनेस्थेसियोलॉजिस्ट सुधाकर को इस महीने की शुरुआत में निलंबित कर दिया गया था जब उन्होंने आरोप लगाया था कि राज्य कोरोनोवायरस महामारी का मुकाबला करने वाले डॉक्टरों को पर्याप्त संख्या में पीपीई किट और एन 95 मास्क प्रदान नहीं कर रहा है।

विशाखापत्तनम के पुलिस आयुक्त आरके मीणा ने बताया की विचाराधीन कांस्टेबल को जांच पूरी होने तक निलंबित कर दिया गया है।

तेलुगु देशम पार्टी और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी सहित विपक्षी दलों ने इस घटना की निंदा करते हुए आरोप लगाया कि यह जगन मोहन रेड्डी शासित आंध्र प्रदेश में मामलों की स्थिति को दर्शाता है।

तेलुगु देशम पार्टी के नेता वरला रमैया ने कहा, “यह एक अमानवीय व्यवहार है, जो सरकार की अक्षमता पर सवाल उठाने के लिए एक दलित डॉक्टर को मिला।”

हालांकि, मीणा ने कहा कि डॉक्टर नशे में था और उसने पुलिस के साथ गलत व्यवहार किया था।

उन्होंने आरोप लगाया कि सुधाकर ने एक पुलिस अधिकारी का मोबाइल फोन पकड़ा और उसे फेंक दिया।

मीणा ने कहा, “डॉक्टर स्पष्ट रूप से कुछ मनोवैज्ञानिक समस्याओं से पीड़ित है।”

उन्होंने कहा, “हमने उन्हें मेडिकल जांच के लिए किंग जॉर्ज अस्पताल भेजा है। मेडिकल रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद, हम भारतीय दंड संहिता की उचित धाराओं के तहत सुधाकर के खिलाफ मामला दर्ज करेंगे।”

Visit Our Facebook Page Click Here

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.