पायल तडवी आत्महत्या: सुप्रीम कोर्ट ने तीन आरोपियों को मुंबई कॉलेज में कोर्स पूरा करने की अनुमति दी

BY- FIRE TIMES TEAM

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को पायल तडवी आत्महत्या मामले में आरोपी तीन मेडिकल छात्राओं को उनका शेष नौ महीने का कोर्स पूरा करने की अनुमति दे दी है।

पायल तडवी ने मई 2019 में मुंबई के टोपीवाला नेशनल मेडिकल कॉलेज में जहां वे काम करती थी, कथित तौर पर जातिवादी दुर्व्यवहार का सामना करने के बाद आत्महत्या कर ली थी।

सुप्रीम कोर्ट ने उनकी जमानत शर्त को कड़ा करते हुए हेमा आहूजा, भक्ति मेहरा और अंकिता खंडेलवाल को किसी भी गवाह को प्रभावित नहीं करने और कॉलेज और अस्पताल से यथासंभव दूर रहने के लिए कहा।

कोर्ट ने उन्हें कॉलेज और अस्पताल के क्वार्टरों में रहने करने के लिए कहा।

तीनों ने अप्रैल 2019 में मुंबई के टोपीवाला नेशनल मेडिकल कॉलेज में कोर्स के तीन में से दो साल पूरे कर लिए थे। वे कॉलेज से जुड़े BYL नायर चैरिटी हॉस्पिटल में रेजिडेंट के रूप में काम कर रही थीं।

तडवी की आत्महत्या के सात दिन बाद 29 मई, 2019 को तीनों डॉक्टरों को गिरफ्तार किया गया था। अगस्त 2019 में, बॉम्बे हाई कोर्ट ने उन्हें मामले में जमानत दे दी थी।

हालांकि, अदालत ने कहा था कि तीनों अग्रीपाड़ा पुलिस स्टेशन (जहां मामला दर्ज किया गया है) के अधिकार क्षेत्र में प्रवेश नहीं करेंगी और विशेष रूप से टोपीवाला नेशनल मेडिकल कॉलेज (बी.वाई.एल. नायर च हॉस्पिटल) में नहीं जाएंगी।

फिर तीनों ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया और अपनी जमानत की शर्त को शिथिल कर दिया।

जस्टिस यूयू ललित, विनीत सरन और अजय रस्तोगी की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा, “सजा सुनाए जाने के दौरान एक अपराधी को पढ़ाई करने की अनुमति दी जाती है और एक इंसान के रूप में उसकी क्षमता को विकसित करने की अनुमति दी जाती है।”

बेंच ने कहा, “राज्य तंत्र को उस दिशा में किसी भी प्रयास में बाधा डालने के बजाय इस तरह की गतिविधियों की सुविधा प्रदान करनी चाहिए। इसलिए, अपीलकर्ता किसी भी मानक द्वारा, व्यक्त किए गए अध्ययन के अपने पाठ्यक्रम जारी रखने के हकदार हैं।”

अदालत ने कहा कि इसका आदेश शैक्षणिक सत्र 2020 -21 के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत से प्रभावी होगा। अगर ऐसा कार्यकाल शुरू हो चुका है तो यह 12.10.2020 से लागू होगा।

महाराष्ट्र सरकार, मुंबई पुलिस और तडवी की मां ने याचिका का विरोध किया। तीनों ने कहा कि आरोपी को उसी कॉलेज में वापस लाने की इजाजत देने से ट्रायल खतरे में पड़ जाएगा।

सितंबर में, राज्य सरकार ने दो अलग-अलग हलफनामे दाखिल किए थे, जिसमें दावा किया गया था कि अभियुक्तों की मांगों पर “विचार करने योग्य नहीं है”।

हलफनामे में कहा गया है कि जिस कॉलेज में उन्होंने अध्ययन किया है, उसमें आरोपी व्यक्तियों के खिलाफ “शत्रुता का भाव” है।

22 मई को शाम में, पायल ताडवी को बीपीएल नायर अस्पताल के तहत चलने वाले टोपीवाला नेशनल मेडिकल कॉलेज में अपने छात्रावास के कमरे में लटका पाया गया था। 27 साल की तडवी, स्त्री रोग और प्रसूति विभाग में एक जूनियर रेजिडेंट थी।

उसके परिवार ने आरोप लगाया था कि तीन वरिष्ठ डॉक्टरों द्वारा उसकी जातिगत पहचान के कारण उसे परेशान किया जा रहा था।

भक्ति मेहेर, अंकिता खंडेलवाल और हेमा आहूजा – सभी उच्च-जाति समूहों से संबंधित हैं – कथित रूप से अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षण के माध्यम से अपनी चिकित्सा सीट प्राप्त करने के लिए तडवी के खिलाफ नाराजगी का प्रदर्शन किया था और बार-बार वे तीनों तडवी के ऊपर जातिगत टिप्पड़ियां करती थीं।

तड़वी महाराष्ट्र के जलगाँव से भील ​​आदिवासी समुदाय से थीं। तडवी गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, मिराज से एमबीबीएस खत्म करने के बाद 2018 में टोपीवाला नेशनल मेडिकल कॉलेज में दाखिला लिया था।

घटना के बाद कॉलेज ने तडवी की मौत की जांच के लिए एक समिति बनाई और तीनों आरोपी डॉक्टरों को निलंबित कर दिया था।

मुंबई पुलिस ने उनके खिलाफ अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अत्याचार अधिनियम, विरोधी रैगिंग प्रावधानों और भारतीय दंड संहिता की धारा 306 के तहत मामला दर्ज किया था जो आत्महत्या के लिए उकसाने से संबंधित है।

यह भी पढ़ें- हिमाचल में ड्रग्स के खिलाफ कोई बात क्यों नहीं? डॉ पायल तडवी की मौत पर मीडिया क्यों चुप थी: उर्मिला मातोंडकर

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.