हाथरस में कोई ‘उत्पीड़न’ नहीं हुआ, सब ‘बनावटी’ है: भाजपा सांसद

BY- FIRE TIMES TEAM

छत्तीसगढ़ में भाजपा सांसद मोहन मंडावी ने हाथरस में हुए दलित महिला के साथ सामुहिक बलात्कार और मारपीट की हालिया घटना के बारे कहा कि वहां किसी भी प्रकार का कोई उत्पीड़न नहीं हुआ और सम्पूर्ण घटना को बनावटी करार दिया।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने सवाल किया कि कांग्रेस के नेता बस्तर क्यों नहीं गए, जहां एक आदिवासी लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार किया गया था।

एक सार्वजनिक सभा को संबोधित करते हुए मोहन मंडावी ने कहा, “हाथरस में कोई उत्पीड़न वहां नहीं हुआ। कांग्रेस के नेता वहां जा रहे हैं जहां कुछ भी नहीं हुआ है, इसे मात्र उत्पीड़न के रूप में चित्रित किया गया है। अगर सीबीआई जांच हुई तो हर 4 से 5 गांवों में ऐसी घटनाएं देखने को मिलेंगी। वे बस्तर में क्यों नहीं आ रहे हैं जहाँ आदिवासियों के साथ एक घटना घटी है?”

बाद में, मीडिया से बात करते हुए मंडावी ने कहा, “बस्तर क्षेत्र में महिलाओं के खिलाफ अत्याचार हो रहे हैं। सरकार सो रही है। वे हाथरस जाते हैं, जो एक बनवती घटना है, लेकिन राज्य में विधायक और मुख्यमंत्री (भूपेश बघेल) यहां होने वाली घटनाओं पर ध्यान नहीं देते हैं।”

19 सितंबर को उत्तर प्रदेश के हाथरस में कथित रूप से सामूहिक बलात्कार करने के बाद 19 सितंबर को एक 19 वर्षीय लड़की ने दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया था।

इसके अलावा, जुलाई में एक आदिवासी महिला के साथ तीन नाबालिगों सहित सात लोगों ने कथित रूप से सामूहिक बलात्कार किया था जिसके बाद महिला ने अपने घर में आत्महत्या कर ली थी। घटना तब घाटी जब महिला पास के क़ानूनगांव में शादी में शामिल होने गई थी।

मामला सामने आने के बाद लड़की के पिता ने खुद को मारने की कोशिश की क्योंकि पुलिस एफआईआर दर्ज नहीं कर रही थी।

इस मामले में पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया गया और धनोरा स्टेशन हाउस अधिकारी रमेश सोरी को बलात्कार का मामला दर्ज करने में लापरवाही के लिए निलंबित कर दिया गया।

यह भी पढ़ें- यूपी: झांसी कॉलेज परिसर में किशोरी से बलात्कार, चल रही थी पीसीएस परीक्षा तैनात था पुलिस बल

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.