नेपाल ने क्यों की भारतीयों पर फायरिंग? जानिए क्या है सच्चाई?

 BY- FIRE TIMES TEAM

नेपाल के साथ भारत के रोटी-बेटी के संबंध हैं। बिना वीजा के आप आसानी से नेपाल जा सकते हैं और वहाँ के लोग भारत आ सकते हैं। लाखों की संख्या में नेपाली भारत में काम करते हैं।

नेपाल के साथ हमारे संबंध काफी पुराने और अच्छे भी रहे हैं लेकिन एक दो साल में काफी कुछ बदल गया है। जब नेपाल का नया संविधान बना तब भारत की आपत्ति से आपसी रिश्तों में थोड़ी खटास आयी थी।

अब नक्शा विवाद के कारण नेपाल के साथ काफी तनाव है। इसी तनाव का नतीजा है नेपाली पुलिस द्वारा भारतीयों पर गोली का चलाना।

दरअसल नेपाल बॉर्डर के पास ऐसे लाखों लोग हैं जिनकी शादी नेपाल में हुई है। जिनमें स्त्रियां और पुरुष दोनों शामिल हैं। इसी रिश्ते के कारण भारत और नेपाल के बीच काफी आवागमन रहता है।

बिहार के सीतामढ़ी सीमा पर जब नेपाल आर्म्ड पुलिस फोर्स ने गोली चलाई तब भी एक परिवार अपने ससुराल मिलने के लिए गया हुआ था। इस गोलीकांड में विकेश यादव नाम के एक शख्स की मौत हो गई जिसकी उम्र 22 साल है तथा अन्य घायल हो गए।

गोलीकांड उस समय हुआ जब लागन यादव की बहू नेपाल सीमा में कुछ भारतीयों से बात कर रही थी। इसी मुलाकात को लेकर नेपाल की पुलिस ने आपत्ति जताई थी। जबकि इसके पहले ऐसी मुलाकातों पर कोई आपत्ति नहीं थी।

पुलिस द्वरा आपत्ति जताने के बाद दोनों पक्षों में बहस होने लगी। बहस का स्तर इतना उठ गया कि शोर होने लगा और यह देखकर लोग इकट्ठा हो गए। 70 से 80 लोगों के इकट्ठा होने के बाद नेपाल की पुलिस ने गोली चला दी जिससे एक शख्स की मौत हो गई।

45 वर्षीय लागन यादव को हिरासत में ले लिया गया है। अभी तक मिली जानकारी के अनुसार उन्हें रिहा नहीं किया गया है। पुलिस पूछताछ के लिए उन्हें पुलिस स्टेशन भी ले गई है।

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.