फेल हुई चीन से आयातित कोरोना किट के लिए भारत ने चुकाई दोगुनी रकम


BY- FIRE TIMES HINDI


चीन से आयातित किट के परिणाम गलत आने के बाद कई राज्यों ने इस पर रोक लगा दी है। भारत ने कुल 6.5 लाख किट्स मंगाई थी। इसकी जानकारी चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिश्री ने एक ट्वीट के माध्यम से दी थी।

भारत ने आईसीएमआर के जरिये बीते 27 मार्च को चीन की कंपनी वांडफो को पांच लाख रैपिड एन्टीबॉडी टेस्ट किट का आर्डर दिया था। इन किट्स को आयातक कंपनी मैट्रिक्स ने चीन से 245 रुपये में प्रति किट की दर से खरीदा था।

इसी किट्स को वितरक कंपनी रीयल मेटाबॉलिक्स और आर्क फार्मास्युटिकल्स ने 600 रुपये प्रति किट के हिसाब से सरकार को बेच दिया। इसका मतलब सरकार ने आयातित किट्स को 60 फीसदी अधिक दाम पर खरीदा।

तमिलनाडु हाई कोर्ट में एक मसले के दौरान जब किट पर बहस हुई तो उसने कहा कि इसे 400 रुपये प्रति किट के हिसाब से बेचा जाना चाहिए। जीएसटी के साथ भी इसकी कीमत 400 रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।

पिछले हफ्ते कई राज्यों ने इसके परिणाम पर सवाल किया था। जिसके बाद आईसीएमआर ने वांडफो टेस्ट किट के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। ऐसे आरोप लगाए गए हैं कि इसके परिणाम काफी गलत आ रहे हैं।

दूसरी ओर आईसीएमआर ने कहा इस किट के चलते भारत में एक रुपए का नुकसान नहीं हुआ।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.