1,200 किमी. का सफर साइकिल से तय करने वाली ज्योति को ‘ब्रांड अंबेसडर’ बनाने जा रही मोदी सरकार

BY – FIRE TIMES TEAM

कोरोना काल के देशव्यापी लॉकडाउन में आज भी प्रवासी मजदूरों का पलायन जारी है। इस पलायन में सरकारी बेहयायी के तमाम उदाहरण मिल जायेंगे। इनमें से हर एक की घर पहुंचने की अपनी अलग ही कहानी है। ऐसी ही एक कहानी है 15 साल की ज्योति की, जिसने हरियाणा के गुरूग्राम से बिहार के दरभंगा तक 1,200 किमी की दूरी साइकिल चलाकर अपने बीमार पिता के साथ पूरी की। इस बच्ची की हर जगह तारीफ हो रही है।

यह भी पढ़ेंः 20 लाख करोड़ का महंगा जुमला: किसके लिए 2 और किसके लिए 00,00,00,00,00,00,0 शून्य?

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने सराहना करते हुए कहा कि, “हमारा मंत्रालय इस किशोरी को ‘ब्रांड अंबेसडर’ बनाने पर विचार करेगा। ज्योति ने विपरीत हालात में अदम्य साहस का परिचय देते हुए जो किया है, वह अद्भुत है। मै चाहता हूं कि ऐसे प्रतिभावान युवक-युवतियों को प्रोत्साहन देकर आगे बढ़ाने का काम अवश्य किया जाना चाहिए।”

यह कहते हुए शायद मंत्री जी भूल गए कि यह अदम्य साहस का परिचय देने के लिए उनके ही सरकार ने मजबूर किया था। यह तो वही बात हो गई कि कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं, बाद अमृत पिलाने से क्या फायदा।

इससे पहले ज्योति की प्रशंसा डोनॉल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रम्प भी कर चुकी हैं। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी 1 लाख रूपये मदद की घोषणा ज्योति के लिए की है। बिहार की एक स्वयंसेवी संस्था ने भी ज्योति को निःशुल्क शिक्षा और उनके पिता मोहन पासवान को नौकरी देने का प्रस्ताव दिया है। साइकिल फेडरेशन ने भी दिल्ली में ज्योति के साइक्लिंग करियर का प्रस्ताव दिया है।

 

इवांका ट्रम्प के इस ट्वीट पर उमर अब्दुल्ला ने कहा कि, “उसकी हताशा और गरीबी को ऐसे महिमामंडित किया जा रहा है जैसे कि ज्योति ने रोमांच के लिए 1,200 किमी साइकिल से सफर किया। सरकार ने उसे असफल कर दिया।”

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.