Photo source : twitter

बिहार चुनावः जानिए कौन हैं पुष्पम प्रिया चौधरी ? जो आर्थिक विकास के मुद्दे पर पूरे बिहार में चुनाव लड़ने जा रही हैं

BY – FIRE TIMES TEAM

बिहार को यूरोप की तरह विकसित करने का दावा करने वाली पुष्पम प्रिया चौधरी ने भी प्रदेश के क्षेत्रों में दौरा शुरू कर दिया है। हमेशा काले लिबास में रहने वाली पुष्पम ने करीब 6 महीने पहले खुद को सीएम उम्मीदवार घोषित कर दिया था।

इसी साल मार्च महीने में एक साथ सभी अखबारों में विज्ञापन जारी कर खुद को बिहार के मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार घोषित करने वाली और प्लूरल्स पार्टी की अध्यक्ष पुष्पम प्रिया की चर्चा इस समय बढ़ गई है।

सुपौल में आयोजित एक जनसभा के दौरान प्लूरल्स पार्टी की संस्थापक पुष्पम प्रिया चौधरी ने इस बार अर्थव्यवस्था और आर्थिक विकास के मुद्दे पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया।

पुष्पम ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि लोगों से जाकर मिलें और अपने एजेंडे के साथ सभी धर्म के लोगों को जोड़ें। पार्टी के रजिस्ट्रेशन के सवाल पर उन्होंने कहा कि क्रांति किसी रजिस्ट्रेशन की वजह से नहीं रूकती। अगर रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाया तो हम निर्दलीय ही लड़ेंगे।

पुष्पम प्रिया चौधरी का दावा है कि यदि बिहार की जनता उन्हें सीएम बनाती है तो वो बिहार को यूरोप की तरह विकसित कर सकती हैं। पुष्पम अपने पिता की पार्टी जदयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार के शासन पर भी सवाल खड़े करती हैं।

कौन हैं पुष्पम प्रिया चौधरी ?

पुष्पम प्रिया चौधरी जदयू नेता और विधान परिषद सदस्य रह चुके विनोद चौधरी की बेटी हैं। मूल रूप से वह दरभंगा जिले की हैं। पुष्पम ने लंदन के मशहूर लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स की डिग्री ली है। और इसके अलांवा इंंग्लैंड के द स्कूल ऑफ डेवलपमेंट स्टडीज विश्वविद्यालय से डेवलपमेंट स्टडीज में भी मास्टर्स किया है।

पुष्पम प्रिया ने पार्टी प्लूरल्स पार्टी का गठन करके बिहार विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। उन्होंने बाकी पार्टियों से अलग उम्मीदवारों के चयन के लिए एक टीम भी बनाई हुई है। जो इंटरव्यू और व्यक्तित्व आकलन के आधार पर उम्मीदवारों का चयन करती है।

प्लूरल्स पार्टी की बेबसाइट के अनुसार पार्टी का लोगो सफेद घोड़ा है, जिस पर पंख लगे हैं। इसे शक्ति और तीव्रता का प्रतीक माना गया है। उनकी पार्टी का नारा है जन गण सबका शासन।

पुष्पम के पिता विनोद चौधरी भी अपनी बेटी के फैसले का समर्थन करते हैं। उनका कहना है कि पुष्पम उच्च शिक्षित है और उसे मेरा आशीर्वाद है। सभी को सपने देखने और उसे साकार करने की आजादी है। इसके अलांवा विनोद चौधरी कहते हैं कि जबतक पार्टी हमें नहीं निकालेगा, वह जदयू में बने रहेंगे। विनोद के पिता भी जदयू ही जुड़े रहे हैं।

 

 

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.