IPL-2020: दिल्ली की दूसरी जीत; चेन्नई की हार के पीछे की 5 बड़ी वजहें?

 BY- FIRE TIMES TEAM

पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली कैपिटल्स ने 20 ओवर में तीन विकेट पर 175 रन बनाए थे। जिसके जवाब में चेन्नई की टीम 20 ओवर में 7 विकेट पर 131 रन ही बना सकी। चेन्नई 44 रन के बड़े अंतर से हार गई।

15 ओवर खेलने के बाद चेन्नई ने 3 विकट पर 95 रन बना लिए थे। तब उसको 5 ओवर में 82 रन बनाने थे जो कि सम्भव था। उस समय तक महेंद्र सिंह धोनी क्रीच पर आये भी नहीं थे।

15 ओवर तक भी दर्शक मैच में चेन्नई को मान रहे। इस समय 16 से थोड़ा ज्यादा एवरेज से रन बनाने थे जो कि धोनी जैसे प्लेयर के रहते संभव था।

इसके बाद आखिरी के 3 ओवर में चेन्नई को जीत के लिए 65 रन बनाने थे। अब धोनी भी क्रीच पर आ गए थे और अभी भी यह संभव माना जा रहा था।

लेकिन सीएसके के कप्तान धोनी का बल्ला कोई खास कमाल नहीं दिखा पाया और वह मात्र 15 रन ही बना पाए। धोनी के आउट होते चेन्नई अप्रत्यक्ष रूप से हार ही गई।

मैच के हाईलाइट्स: 

1. शिखर धवन और पृथ्वी शॉ की सलामी जोड़ी का बेहतरीन प्रदर्शन।

2. पृथ्वी शॉ की शानदार पारी।

3. रबादा, नॉर्टजे, अमित मिश्रा और एक्सर पटेल की कसी हुई गेंदबाजी।

4. चेन्नई की झलकती हुई उम्र। दरअसल इस टीम के ज्यादातर प्लेयर 30 से ज्यादा के उम्र के हैं।

5. शॉ का बल्ले से किनारा लगना, अपील ना होने पर उनका क्रीज पर डटे रहना। उस समय उनका स्कोर शून्य था।

सिल्ली की तरफ से कगिसो रबाडा ने शानदार गेंदबाजी की। रबाडा ने तीन विकेट लिए और रन भी कम लुटाए। साथ ही एनरिच को 2 और अक्षर पटेल को 1 सफलता मिली।

उधर चेन्नई के शुरुआती बल्लेबाजों का बहुत जल्द हो जाना, जिसने धोनी के लिए मैच में पकड़ बनाये रखना बेहद कठिन हो गया।

चेन्नई के शेन वाटसन(14), मुरली विजय(10), ऋतुराज गायकवाड़(5) ने कोई बड़ा योगदान नहीं दिया।

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.