हाथरस: बेटी का आखरी बार चेहरा भी नहीं देख पाए घरवाले, पुलिस ने किया ज़बरदस्ती अंतिम संस्कार

 BY- FIRE TIMES TEAM

हाथरस के गैंगरेप ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है। गैंगरेप के बाद बच्ची की जीभ काटना, रीढ़ की हड्डी तोड़ना अपराधियों की मंशा को साफ दिखा रहे हैं।

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ने के बाद देश में काफी बवाल मचा। लोगों ने जमकर प्रतिक्रिया दी और योगी सरकार से महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल भी खूब किए गए।

बवाल को बढ़ता देख पुलिस ने गुपचुप तरीके से उस बेटी का रात के अंधेरे में अंतिम संस्कार कर दिया जिसके साथ इतनी बड़ी हैवानियत हुई थी। मंगलवार की देर रात भारी पुलिस बल के साथ बच्ची का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

महिला के भाई से अंतिम संस्कार के बारे जब एएनआई ने सवाल किया तो उन्होंने कहा, “नहीं, उन्होंने इसे अपने दम पर किया। हम डर गए हैं। पुलिस ने हमें शव को श्मशान घाट ले जाने के लिए मजबूर किया। हमने कहा कि हम इसे सुबह करेंगे।”

महिला के भाई के जवाब से साफ झलकता है कि योगी जी की पुलिस जोर ज़बरदस्ती करके अंतिम संस्कार करवाना चाह रही थी जिसमें वह सफल भी हुई।

किसी तरह का विरोध न हो इसलिए गांव में भारी फोर्स लगा दी गई। जहां अंतिम संस्कार किया गया वहां पुलिस के अलावा किसी को जाने की इजाजत नहीं थी।

इंडिया टुडे की एक पत्रकार पुलिस वालों से सवाल करती हैं कि क्या जल रहा है तो पुलिस इसपर कुछ नहीं बोलती है। वह लगातार पूछने की कोशिश करती हैं लेकिन उनको किसी न यह नहीं बताया कि क्या जल रहा है।

यह कई सवाल खड़े करता है। पुलिस को इतनी रात को अंतिम संस्कार करने की क्या आवश्यकता थी? क्या परिजनों को अंतिम संस्कार नहीं करने दिया जाना चाहिए था? क्या लोगों के विरोध के कारण ऐसा करना उचित था? मीडिया से छिपाने की आवश्यकता क्यों?

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.