ईडी दर्ज करेगी विकास दुबे के परिवार और उसके सहयोगियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस

BY- FIRE TIMES TEAM

शनिवार को अधिकारियों ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) एक मनी लॉन्ड्रिंग केस दर्ज करने और मृत गैंगस्टर विकास दुबे, उनके परिवार के सदस्यों और सहयोगियों द्वारा बनाई गई अवैध लेनदेन और दागी संपत्ति की जांच करने के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि लखनऊ में एजेंसी के ज़ोनल कार्यालय ने 6 जुलाई को कानपुर पुलिस से विकास दुबे के परिवार और उनसे जुड़े हुए लोगों के खिलाफ दायर सभी एफआईआर और आरोप पत्र और इन सभी मामलों में नवीनतम अपडेट की मांग की है।

ईडी ने कहा, जल्द ही दुबे, उसके सहयोगियों और परिवार के सदस्यों द्वारा कथित रूप से उत्पन्न अपराध की जांच के लिए धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत शिकायत दर्ज करेंगे और यह पता लगाएंगे की इस धन का उपयोग चल-अचल अवैध निर्माण के लिए किया गया था या नहीं।

यह आरोप लगाया गया है कि दुबे ने अपनी आपराधिक गतिविधियों के माध्यम से अपने और अपने परिवार के नाम पर काफी धन अर्जित किया है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में दुबे और उनके परिवार से जुड़ी दो दर्जन से अधिक नामी और बेनामी संपत्तियां और कुछ निकटवर्ती क्षेत्र, बैंक जमा और सावधि जमा रसीदें केंद्रीय जांच एजेंसी की जांच के दायरे में हैं।

कुछ पुलिस एफआईआर को साझा किया गया है जबकि एजेंसी द्वारा कुछ और जानकारी प्राप्त की जा रही है।

उन्होंने कहा कि यह अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों से दुबे और अन्य लोगों की संभावित अघोषित विदेशी संपत्ति के बारे में भी जानकारी मांग रहा है।

उन्होंने कहा कि यहां तक ​​कि जब दुबे मृत हो गया तब भी पीएमएलए की योजना एजेंसी को अपराध की कार्यवाही और इस आपराधिक गतिविधि के परिणामस्वरूप अर्जित संपत्तियों के मुख्य आरोपियों के खिलाफ आपराधिक जांच जारी रखने में सक्षम बनाती है।

पीएमएलए की धारा 72 में “मृत्यु या दिवाला की स्थिति में कार्यवाही जारी रखने का प्रावधान है।”

47 साल के दुबे की शुक्रवार को यूपी पुलिस के स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीम के साथ हुई मुठभेड़ में मृत्यु हो गई।

खूंखार अपराधी ने एस्कॉर्ट करने वाले सिपाही से एक पिस्तौल छीन ली, जो दुर्घटना में घायल हो गया, उसने पुलिस पर गोलीबारी की और जब पुलिस ने जवाबी कार्रवाई में गोलीबारी की जिसमें दुबे घायल हो गया।

इसके तुरंत बाद ही उसे कानपुर के अस्पताल ले जाया गया लेकिन डॉक्टर्स ने उसे वहां मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें- कानपुर ले जाते समय गैंगस्टर विकास दुबे की पुलिस मुठभेड़ में हुई मौत

उन्होंने दावा किया था कि उज्जैन से कार ले जाने के बाद वह भागने की कोशिश कर रहा था।

दुबे के ऊपर कानपुर जिले के चौबेपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत बिकरू गांव में अपने घर के बाहर तीन जुलाई की आधी रात के बाद आठ पुलिसकर्मियों की हाल ही में हुई हत्या सहित लगभग 60 पुलिस एफआईआर दर्ज हैं।

यह भी पढ़ें- विकास दुबे को गिरफ्तार करने गई पुलिस पर फायरिंग; डिप्टी एसपी समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.