कोरोना वायरस की वजह से 6 करोड़ लोगों को अत्यधिक गरीबी का सामना करना पड़ेगा: विश्व बैंक

BY- FIRE TIMES TEAM

विश्व बैंक ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी के चलते पूरा विश्व आर्थिक संकट में है और इसकी वजह से 6 करोड़ से भी अधिक की जनसंख्या को गरीबी का सामना करना पड़ेगा।

विश्व बैंक ने यहां तक ​​कि 100 विकासशील देशों में 160 बिलियन डॉलर (12.1 लाख करोड़ रुपये) के इमरजेंसी ऑपरेशन्स की घोषणा भी की है ताकि वे इस महामारी से निपट सकें।

विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविड मलपास ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से कहा, “उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के लॉक डाउन की वजह से जो इस महामारी की वजह से हुआ है, उससे लगभग 60 मिलियन लोगों से भी अधिक लोगों को अत्यधिक गरीबी का सामना करना पड़ सकता है।”

उन्होंने कहा कि यह गरीबी उन्मूलन की दिशा में की गई हालिया प्रगति पर भी प्रभाव डालेगा और सारी योजनाएं भी विफल हो जाएंगी।

उन्होंने कहा, “विश्व बैंक समूह 100 देशों में आपातकालीन इमरजेंसी ऑपरेशन्स स्थापित करने के लिए जल्दी और निर्णायक रूप से आगे बढ़ रहा है, ऐसे तंत्र जो अन्य दाताओं (किसानों) को आगे कार्य करने में तेजी से विस्तार करने की अनुमति देते हैं।”

मलपास ने कहा कि विश्व बैंक ने स्वास्थ्य आपातकाल से निपटने, गरीबों का समर्थन करने, निजी क्षेत्र को बनाए रखने और आर्थिक लचीलापन और वसूली को मजबूत करने के लिए 160 अरब डॉलर देनेे का फैसला किया है।

मलपास ने कहा कि दुनिया की 70% आबादी के लिए 100 देशों को पहले से ही आपातकालीन वित्त प्रदान किया जा चुका है।

3 अप्रैल को, विश्व बैंक ने भारत के लिए 1 बिलियन डॉलर (7,570 करोड़ रुपये) की आपातकालीन निधि को मंजूरी दी थी।

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट ने 7 अप्रैल को कहा था कि महामारी 40 करोड़ भारतीयों को अनौपचारिक क्षेत्र में काम करने के लिए मजबूर कर सकती है।

विश्व स्तर पर, कोरोनो वायरस ने अब तक 49 लाख लोगों को संक्रमित किया है, और जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार, 3.23 लाख से अधिक लोग मारे गए हैं।

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.