कोरोना वायरस महामारी खत्म हो चुकी है: भाजपा नेता दिलीप घोष

BY- FIRE TIMES TEAM

पश्चिम बंगाल भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख दिलीप घोष ने दावा किया है कि कोरोना वायरस महामारी खत्म हो चुकी है और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  भाजपा को सार्वजनिक बैठकों के आयोजन से रोकने के लिए राज्य में लॉक डाउन लागू कर रही हैं।

राज्य का कोरोना वायरस के 23,377 सक्रिय मामलों के साथ कुल 1,93,175 मामले हैं।

भारत में शुक्रवार को 96,550 नए संक्रमणों की रिकॉर्ड वृद्धि हुई, जिससे कोरोना वायरस मामलों की कुल संख्या 45,62,414 हो चुकी है।

घोष ने हुगली की एक रैली में यह टिप्पणी की, जिसमें हजारों पार्टी समर्थकों ने बुधवार को शिरकत की, और सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का खुल के उल्लंघन किया।

हुगली जिले ने राज्य में पांचवें सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए हैं।

घोष ने हुगली बैठक में भीड़ को संबोधित करते हुए कहा, “दीदी के  भाइयों (समर्थकों) को रैली देखने के बाद असहज महसूस हो रहा है।”

उन्होंने कहा, “यह कोरोना वायरस के डर के कारण नहीं है, बल्कि भाजपा के डर के कारण है! कोरोना खत्म हो गया है, लेकिन दीदी अनावश्यक रूप से राज्य भर में लॉक डाउन कर रही है ताकि भाजपा को बैठकें और रैली से रोका जा सके।”

तृणमूल कांग्रेस ने घोष की टिप्पणियों के लिए उनका मजाक उड़ाया और कहा कि उन्हें डॉक्टर से मिलना चाहिए।

तृणमूल कांग्रेस के सांसद कल्याण बंदोपाध्याय ने कहा, “हर दिन हम बंगाल में 3,000 नए मामले और देश में 95,000 से अधिक नए मामले देख रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “लेकिन भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष एक उल्लासपूर्ण बयान दे रहे हैं कि COVID-19 खत्म हो गया है! मुझे लगता है कि उन्हें अपने इलाज के लिए डॉक्टर के पास जाना चाहिए।”

गुरुवार को, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने अयोध्या में राम मंदिर के जमीनी समारोह के दिन, 5 अगस्त को बनर्जी के नेतृत्व वाली सरकार को ‘हिंदू विरोधी’ करार दिया था।

नड्डा ने राज्य में नवगठित पार्टी की कार्यकारी समिति को संबोधित करते हुए कहा, “ममता दीदी ने 5 अगस्त को पश्चिम बंगाल में लॉक डाउन किया और करोड़ों के सपनों को कुचल दिया।”

उन्होंने कहा, “इसके विपरीत, बकरीद के कारण 31 जुलाई को लॉक डाउन वापस ले ली गई थी। इससे पता चलता है कि राज्य सरकार की नीतियां हिंदू विरोधी मानसिकता और तुष्टिकरण की राजनीति से प्रेरित हैं।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नियमित रूप से नागरिकों से कोरोना वायरस महामारी को गंभीरता से लेने का आग्रह किया है।

गुरुवार को प्रधान मंत्री मत्स्य सम्पदा योजना के राष्ट्रीय लॉन्च पर मोदी ने कहा, “मुझे आपसे कुछ उम्मीदें हैं। मास्क पहनने और दो गज की दूरी बनाए रखने के नियम का पालन करना है। सुरक्षित रहें और स्वस्थ रहें। परिवार में वरिष्ठ नागरिकों का ख्याल रखें। ये बातें महत्वपूर्ण हैं। कोरोना वायरस को हल्के में न लें।”

यहां तक ​​कि भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई ने महामारी से निपटने के लिए मुख्यमंत्री बनर्जी की आलोचना की है, और दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस सरकार ने जानबूझकर COVID-19 से हुई मौतों और मामलों की संख्या जारी नहीं कि।

यह भी पढ़ें- 23.9 प्रतिशत GDP गिरने पर खामोश गोदी मीडिया एक अवैध ऑफिस गिरने पर छाती पीटने लगी!

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.