गुजरात: महिला सिपाही सुनीता यादव का हुआ ट्रांसफर, भाजपा विधायक के बेटे को लॉक डाउन का उल्लंघन करने पर रोका था

BY- FIRE TIMES TEAM

गुजरात की एक महिला कांस्टेबल, जिसका सूरत में लॉक डाउन नियमों का उल्लंघन करने के लिए भारतीय जनता पार्टी के विधायक के बेटे के साथ कथित तौर पर विवाद हुआ था, उसका पुलिस मुख्यालय में ट्रांसफर कर दिया गया है।

घटना के कथित ऑडियो और वीडियो क्लिप के सोशल मीडिया पर व्यापक रूप से वायरल होने के बाद एक जांच स्थापित की गई है।

वराछा रोड के विधायक और स्वास्थ्य राज्य मंत्री कनानी के पुत्र प्रकाश कनानी का कॉन्स्टेबल सुनीता यादव के साथ विवाद हुआ था, खबरों के अनुसार वह और उसके दोस्त कर्फ्यू के दौरान बिना मास्क के बाहर थे।

वारदात शनिवार रात की है जब वराछा थाने में तैनात यादव गश्त ड्यूटी पर थी।

अज्ञात अधिकारियों ने अखबार को बताया कि यादव ने पांच युवकों को रोका था – सभी बिना मास्क के – एक कार में यात्रा कर रहे थे।

यादव ने कथित तौर पर उनकी कार की चाबियां छीन लीं, जिसके बाद उनमें से एक युवक ने मदद के लिए मंत्री के बेटे को फोन किया। वीडियो में, कनानी का बेटा होने का दावा करने वाला व्यक्ति घटनास्थल पर दिखाई दिया है।

जब कनानी से सुनीता यादव ने पूछा कि वह कर्फ्यू के दौरान क्यों बाहर निकला है, तो उसने यादव से कहा कि वह “अपने दोस्त की मदद करने के लिए आया है”।

कनानी ने कथित तौर पर महिला सिपाही सुनीता को धमकी भी दी थी कि वह उसे 365 दिनों के लिए इसी जगह पर खड़ा करवा सकता है

हालांकि, महिला कांस्टेबल ने इसपर जवाब दिया कि वह उसकी गुलाम नहीं है। वीडियो में देखा जा सकता है कि सुनीता यादव ने कनानी की कार से एमएलए गुजरात का बैनर हटवा दिया।

सूरत के पुलिस कमिश्नर आरबी ब्रह्मभट्ट ने सहायक पुलिस आयुक्त सीके पटेल की अगुवाई में इस घटना की जांच शुरू की है, जिन्होंने कांस्टेबल यादव को गश्त ड्यूटी से हटा दिया था।

ब्रह्मभट्ट ने कहा, “हमने घटना की जांच शुरू कर दी है और रिपोर्ट आने पर तय करेंगे कि गलती किसकी है?”

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.