मध्य प्रदेश: कांग्रेस ने महासचिव पद के लिए भाजपा नेता को चुना

BY- FIRE TIMES TEAM

मध्य प्रदेश में कांग्रेस को उस समय काफी जिल्लत महसूस करनी पड़ी जब पार्टी ने एक ऐसे बंदे को युवा विंग का महासचिव चुना जिसने काफी पहले कांग्रेस पार्टी छोड़ कर भाजपा जॉइन कर ली थी।

हर्षित सिंघई ने मार्च में कांग्रेस छोड़ दी थी, जब पार्टी के कई विधायक और कार्यकर्ता ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे।

युवा कांग्रेस के संगठनात्मक चुनाव परिणाम 18 दिसंबर को घोषित किए गए थे, और सिंघई 12 वोटों से चुने गए थे। उसी दिन, सिंघई को जबलपुर में अपने नए पद के लिए बधाई संदेश मिले।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “सबसे हँसने योग्य तथ्य यह है कि कोई भी चुनाव में दिलचस्पी नहीं रखता है और मैं महासचिव चुना गया हूं।  मैंने सिंधिया जी के साथ 10 मार्च को कांग्रेस छोड़ दी। मैंने तीन साल पहले यूथ कांग्रेस के चुनाव के लिए अपना नामांकन भरा था।”

सिंघई ने कहा कि उन्होंने भाजपा में शामिल होने के बाद पार्टी से अपना नाम हटाने का अनुरोध किया था, लेकिन इस मामले में कुछ नहीं किया गया था।

उन्होंने कहा, “जब मैंने दोबारा फोन किया, तो उन्होंने मुझे एक मेल भेजने के लिए कहा। मैंने कमलनाथ (मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री) और राहुल गांधी को लिखा था। मध्यप्रदेश में युवा कांग्रेस ने यही किया है। जो अब पार्टी में नहीं हैं, उन्हें चुना जा रहा है।”

पूर्व राज्य युवा कांग्रेस प्रमुख कुणाल चौधरी ने सिंघई पर अपना नामांकन वापस लेने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि त्रुटि को चिह्नित करते ही नियुक्ति रद्द कर दी गई थी।

एमपी यूथ कांग्रेस के चुनाव समन्वयक मकसूद मिर्जा ने इसे भाजपा का “सस्ता प्रचार स्टंट” कहा। कांग्रेस ने अब जांच के लिए एक “अनुशासनात्मक समिति” का गठन किया है जो गलती के लिए जिम्मेदार है।

यह भी पढ़ें- ओटीटी प्लेटफॉर्म्स के लिए Flyx Filmfare OTT Awards 2020 की हुई शुरुआत, जानिए किन फिल्मों का रहा बोलबाला

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.