हाथरस केस: जिस दिन पीड़िता पहुंची अस्पताल उस दिन का सीसीटीवी फुटेज हुआ गायब

BY- FIRE TIMES TEAM

हाथरस बलात्कार और हत्या मामले की सीबीआई जांच में उनकी पहली किरकिरी तब हुई जब जांचकर्ताओं ने पाया कि 14 सितंबर का सीसीटीवी फुटेज, जिस दिन पीड़िता को अस्पताल लाया गया था, वह ‘गुम’ हो चुकी है।

हाथरस के जिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक इंद्र वीर सिंह ने कहा कि अगर पुलिस ने उनसे पूछा होता तो अस्पताल फुटेज को बचा लेता।

उन्होंने कहा, “पिछले फुटेज को हर सात दिनों में डिलीट कर दिया जाता है और नए सीसीटीवी फुटेज को रिकॉर्ड किया जाता है। जब तक कि विशेष रूप से नहीं पूछा जाता है, तब तक हम बैक-अप नहीं रखते हैं।”

पीड़िता को घटना के बाद इलाज के लिए पहले जिला अस्पताल ले जाया गया था और अगर फुटेज मिल जाते तो हमले के बाद उसकी हालत के बारे में महत्वपूर्ण सबूत भी मिल जाते जिससे आगे की जांच में आसानी होती।

डॉक्टरों के बयान दर्ज करने और सबूतों की जांच करने के लिए सीबीआई टीम ने अस्पताल का दौरा किया था।

सीबीआई सूत्रों ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज से उन्हें पीड़िता की स्थिति का पता लगाने में मदद मिलती जब उसे वहां लाया गया था और साथ ही यह भी पता चल जाता कि सबसे पहले उसे किसने अटेंड किया था और किसने उससे बात की थी।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि अस्पताल को अपराध से संबंधित जांच से “कुछ लेना देना नहीं है”।

उन्होंने कहा, “जब तक अस्पताल में कोई अपराध नहीं होता है या लापरवाही की सूचना नहीं दी जाती है, इसका आपराधिक जांच पर कोई असर नहीं पड़ता है। ये असंबंधित चीजें हैं। इसीलिए सीसीटीवी फुटेज पर ध्यान नहीं दिया गया और उसे मिटा दिया गया।”

यह संयोग से, हाल के हफ्तों में दूसरी घटना है जब सीबीआई द्वारा जांच की जा रही एक हाई-प्रोफाइल मामले में सीसीटीवी फुटेज की अनुपस्थिति जांच को प्रभावित कर रही है।

सुशांत सिंह राजपूत मामले में भी मुंबई के कूपर अस्पताल में जहां दिवंगत अभिनेता का पोस्टमार्टम किया गया था, उन्होंने जांच के लिए सीसीटीवी फुटेज को संरक्षित नहीं किया था।

यह भी पढ़ें- शाहजहांपुर: कानून की छात्रा ने चिन्मयानंद पर लगाये आरोप वापस लिए

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.