नजरिया

जयराम नरेश

रोजगार पर बात हो तो रही है फिर नामीबिया से लाए चीतों पर बहस क्यों?

व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा अब क्या ये हद्द ही नहीं हो गयी। बताइए, मोदी जी के जन्म दिन पर भाई लोग बेरोजगार दिवस ट्रेन्ड करा रहे हैं। वह भी उस ट्विटर पर, जिसके अपने मोदी जी एक तरह से राजा ही हैं। आप को मोदी जी पसंद नहीं है, तो …

Read More »

विश्लेषण: इतने लोकप्रिय होने के बाद भी हिंदी भाषा में ब्राह्मणवादी और सांप्रदायिक भावना के तत्व मौजूद रहे

BY- BIPUL KUMAR हिंदी में दिया गया एक भाषण लद्दाख के एक अनजान सांसद शेरिंग नामग्याल को पूरे देश का स्टार बना देता है। पूर्वोत्तर के रहने वाले मंत्री किरण रिजिजू संसद में धाराप्रवाह हिंदी में भाषण देते हैं। ममता बनर्जी लोकसभा चुनाव के मौक़ों पर हिन्दी में ना सिर्फ भाषण …

Read More »

स्वरूपानंद सरस्वती: कॉन्ग्रेस की ओर अपने झुकाव के चलते शंकराचार्य लम्बे समय से भाजपा समर्थकों के निशाने पर रहे

BY- BIPUL KUMAR जगतगुरु शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी आज दोपहर 98 वर्ष की उम्र में ब्रहमलीन हो गए। वैसे तो देश में कई स्वघोषित शंकराचार्य घूम रहे आजकल लेकिन इस देशों के आदि शंकराचार्य जी द्वारा स्थापित चार ही पीठ हैं, द्वारिका पीठ, श्रिंगेरी पीठ, गोवर्धन पीठ, एवं ज्योतरिपीठ। श्रद्धेय जगतगुरु …

Read More »

कहानी: राहुल के टीशर्ट के बाद जानिए राजीव गांधी के चश्मे की कहानी

BY- BIPUL KUMAR आज बीजेपी ने राहुल गांधी की टीशर्ट पर सवाल खड़ा कर दिया कि उन्होंने 40 हजार की टीशर्ट पहनी हैं। मैं अमूमन पहनने खाने को निजी मामला मानता हूं लेकिन आज राजीव जी फिर से याद आये। मत भूलिएगा राहुल उन्हीं राजीव गांधी के बेटे हैं। यहाँ कहानी …

Read More »

एक पेड़ पर चढ़कर राजकुमारी के महारानी बनने की कहानी

BY- BIPUL KUMAR जिम कार्बेट का नाम तो हिंदुस्तान में लगभग सभी ने सुना हो होगा। वही जिनके नाम पर हिंदुस्तान का सबसे बड़ा नैशनल पार्क है, वही जिम कार्बेट थे जिन्होंने एलिज़ाबेथ को एक पेड़ राजकुमारी की तरह चढ़ते देखा था, और फिर अगली सुबह जब वो उस पेड़ से …

Read More »

ग्राउंड स्टोरी: बिहार में अलग राज्य की मांग क्यों की जा रही हैं?

BY- BIPUL KUMAR “ये संयोग नहीं है की 11 सबसे गरीब जिलों में सबके सब मिथिला क्षेत्र से हैं। हम जब मिथिला राज्य मांगते हैं तो टंटपूंजिया मगधराकस यूट्यूबर सब गाली देता है मैथिलों को लेकिन इसपे जवाब किसी के पास नहीं है। क्यों सबसे गरीब हमहीं हैं, क्या हम हमेशा …

Read More »

चुनावी तैयारी: नरेंद्र मोदी के खिलाफ यात्रा का दौर शुरू

BY- BIPUL KUMAR विपक्ष मर चुका हैं। यह आवाज 99% भारतीयों की हैं। अगर देश आपके लिए केवल 15 अगस्त को झंडा फहराने का कार्यक्रम भर नहीं है। अगर देश का मतलब देश की जनता की हंसी- खुशी और आपके बच्चों के लिए सुंदर सफल भविष्य देने वाली एक ताकत …

Read More »

ईश्वर कभी आपको भारत में अल्पसंख्यक बनाए तो जैनों जैसा बनिए

BY- AMIT CHATURVEDI दस दिवसीय गणेशोत्सव के साथ साथ आजकल पर्यूशण पर्व भी चल रहे हैं। दस दिन चलने वाले इस पर्व को दशलक्षण पर्व भी कहा जाता है। जैन धर्मावलम्बीयों के साल के सबसे पवित्र दिन होते हैं। ये दस दिन जिनमें जैन धर्म को मानने वाले नवरात्रों की तरह …

Read More »

क्या यह मुलाकात बहुजन राजनीति की तस्वीर बन सकती है?

BY- BIPUL KUMAR जिस दिन ये लोग घाट पर कपड़े नहीं धोते, उस दिन वह खेत में हल चलाते हैं। वो जन्मजात किसान हैं-धोबी हैं-श्रमिक हैं। आसान भाषा में कहें तो ‘ये लोग’ बहुजन हैं। 31 अगस्त 2022 के दिन इसी बहुजन समाज की दो नेत्रियों की मुलाकात अखबार और खबरों …

Read More »

खेल पत्रकारिता के सौ वर्ष तो हो गए, सुनहरा दौर कब आएगा?

BY- Dr. MANISH JAISAL दुनियाँ भर में खेलों को लेकर जिस तरह का उत्साह दिखता है उससे भारत में प्रचिलित ‘खेलोगे कूदोगे तो बनोगे ख़राब, पढ़ोगे लिखोगे तो बनोगे नवाब’ पंक्ति एक बार हमें सोचने पर मजबूर करती है। आगामी 29 अगस्त भारत में खेल दिवस के रूप में मनायी जाएगी। …

Read More »