भोपाल: मंदिर में सैनिटाइजर के उपयोग के खिलाफ हूं क्योंकि इसमें अल्कोहल होता है: पुजारी

BY- FIRE TIMES TEAM

मध्य प्रदेश के भोपाल में एक मंदिर के एक पुजारी ने कहा कि वह धार्मिक पूजा के स्थानों, मंदिरों में सैनिटाइटरों के उपयोग के खिलाफ है।

कोरोना महामारी के बीच केंद्र के अनलॉक 1 योजना के पहले चरण में धार्मिक स्थलों को सोमवार 8 जून से खोलने का प्रस्ताव है।

सरकार ने मानक संचालन प्रक्रियाएं (एसओपी) जारी की हैं, जिसमें कम से कम छह फीट की भौतिक दूरी, फेस कवर को अनिवार्य उपयोग शामिल है।

इसके अलावा कम से कम 40-60 सेकंड के लिए साबुन से हाथ धोना, छींकते या खांसते के बाद अल्कोहल-युक्त सैनिटाइजर से हाथ सेनाइटिस करना और मुंह और नाक को ढंकना भी शामिल हैं।

भोपाल वैष्णवधाम नव दुर्गा मंदिर के पुजारी चंद्रशेखर तिवारी ने कहा, “सरकार का काम मंदिरों में दिशानिर्देश जारी करना है, लेकिन मैं मंदिरों में सैनिटाइजर के उपयोग खिलाफ हूं क्योंकि इसमें अल्कोहल का इस्तेमाल होता है।”

तिवारी ने कहा, “जब हम शराब पीने के बाद किसी मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकते हैं, तो हम अपने हाथ को शराब से कैसे साफ कर सकते हैं और अंदर जा सकते हैं।”

फिर उन्होंने लोगों के लिए सार्वजनिक स्थानों पर व्यक्तिगत स्वच्छता बनाए रखने का एक और विकल्प दिया।

पुजारी ने कहा, “हाथ धोने की मशीनें सभी मंदिरों के बाहर लगाई जा सकती हैं और साबुन रखे जा सकते हैं। हम यह स्वीकार करेंगे। वैसे भी, एक व्यक्ति घर पर स्नान करने के बाद ही मंदिर में प्रवेश करता है।”

केंद्र ने अपने निर्देशों में कहा है कि जूते या चप्पलों को अपने वाहन के अंदर ही उतारना है और मूर्तियों और पवित्र पुस्तकों को छूने की अनुमति नहीं है। प्रसाद वितरण या पवित्र जल के छिड़काव जैसे भौतिक प्रसाद की अनुमति नहीं है।

रिकॉर्डेड भक्ति संगीत और गीतों की सिफारिश की गई है लेकिन गायकों या गायन समूहों को आमंत्रित करना उचित नहीं है।

दिशानिर्देशों के अनुसार, “एक दूसरे को बधाई देते हुए शारीरिक संपर्क से बचें। मंदिर की प्रार्थना मैट से बचा जाना चाहिए और भक्तों को अपनी प्रार्थना की चटाई या कपड़े का टुकड़ा लाना होगा जिसे वे अपने साथ वापस ले जा सकते हैं।”

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.