बीजेपी का हिंदुत्व मतलबी, बंटवारे के पहले जैसा माहौल बना रही पार्टी

BY- FIRE TIMES TEAM

शिवसेना ने मंगलवार को पूर्व सहयोगी बीजेपी पर निशाना साधते हुए दावा किया कि उसका हिंदुत्व मतलबी और खोखला है और भगवा पार्टी के “नव-हिंदुत्ववादी” देश में विभाजन पूर्व जैसा माहौल बना रहे हैं।

शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में यह भी दावा किया गया कि भाजपा का हिंदुत्व से कोई लेना-देना नहीं है और हिंदुओं और मुसलमानों के बीच दरार पैदा करने के अलावा और कोई एजेंडा नहीं है।

मराठी दैनिक ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर गलवान घाटी में हनुमान चालीसा का पाठ पड़ने से अगर चीनी सैनिक पीछे हटने वाले हैं, तो ठीक है।

पार्टी ने पूछा कि क्या मस्जिदों के बाहर ‘हनुमान चालीसा’ बजाने से कश्मीरी पंडितों की समस्याओं के समाधान, बेरोजगारी का समाधान हो जाएगा?

स्पष्ट है कि भाजपा का हिंदुत्व स्वार्थी और खोखला है। यह संदेह मजबूत हो रहा है कि चुनाव जीतने के लिए इन लोगों की दंगों को अंजाम देने और दरार पैदा करने की भूमिका है।

हिजाब विवाद और कुछ दक्षिणपंथी समूहों द्वारा मुसलमानों को मंदिरों के बाहर व्यापार करने की अनुमति नहीं देने की मांग का हवाला देते हुए कहा कि, “भाजपा के नव-हिंदुत्ववादी पूर्व-विभाजन जैसा माहौल बना रहे हैं।”

विशेष रूप से, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के प्रमुख राज ठाकरे ने हाल ही में मस्जिदों में लाउडस्पीकर बंद करने की मांग की और कहा कि अगर इसे नहीं रोका गया, तो “मस्जिदों के बाहर अधिक मात्रा में ‘हनुमान चालीसा’ बजाने वाले भक्त होंगे”।

रविवार को रामनवमी पर मेस में मांसाहारी भोजन परोसने को लेकर दिल्ली में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्र समूहों के बीच हालिया झड़पों का उल्लेख करते हुए, शिवसेना के संपादकीय में कहा गया है कि भाजपा मुद्रास्फीति और बेरोजगारी जैसे मुद्दों से ध्यान हटाने की कोशिश कर रही है।

धर्म एक अफीम है और यह भारत में हर रोज स्पष्ट होता है। जेएनयू में हिंसा परोसे जा रहे मांसाहारी भोजन के कारण हुई, लेकिन भाजपा भगवान राम के नाम को बदनाम कर रही है।

यह भी पढ़ें- भारत के बड़े बूचड़खाने जिनके मालिक हिन्दू हैं?

यह भी पढें- देश बड़ी तेजी से सांप्रदायिकता की खाई में लुढ़क रहा जिससे कई पीढियां बर्बाद हो सकती हैं

Follow Us On Facebook Click Here

Visit Our Youtube Channel Click Here

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.