यूपी: कानपुर के चिड़ियाघर में पहुंचा बर्ड फ्लू, 15 दिन के लिए हुआ चिड़ियाघर बंद

BY- FIRE TIMES TEAM

कानपुर के चिड़ियाघर के निदेशक डॉ सुनील चौधरी ने शनिवार को जूलॉजिकल पार्क में बर्ड फ्लू के एक मामले का पता लगाया है। उन्होंने कहा कि चिड़ियाघर को 15 दिनों के लिए आगंतुकों के लिए बंद कर दिया गया है।

चौधरी ने कहा कि अधिकारी आने वाले दिनों में पक्षियों के और नमूने भेजेंगे।

कानपुर प्राणी उद्यान अधिकारियों ने शुक्रवार को निगरानी बढ़ा दी क्योंकि चार जनवरी को परिसर में चार पक्षी मृत पाए गए थे। नमूने उच्च सुरक्षा के तहत भोपाल के पशु रोग प्रयोगशाला में भेजे गए हैं।

केरल, कर्नाटक, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, और हिमाचल प्रदेश के राज्यों से मुर्गी, कौवे और प्रवासी पक्षियों की मृत्यु के मद्देनजर केंद्र ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को बीमारी के प्रसार को रोकने के उपाय सुझाए हैं।

मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय ने एक विज्ञप्ति में कहा कि जिन राज्यों में अभी तक एवियन इन्फ्लूएंजा के मामले सामने आए हैं उनमें केरल, राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, गुजरात और उत्तर प्रदेश शामिल हैं।

बर्ड फ्लू पक्षियों से इंसानों में फैलने वाली सर्दी-जुखाम की बीमारी है। आमतौर पर ये बीमारी एक पक्षी से दूसरे पक्षी को ही होती है लेकिन कभी-कभी पक्षियों से इंसानों में भी हो जाती है।

इंसानों में भी यह बीमारी एक इंसान से दुसरे इंसान में फैलती है जब व्यक्ति एक दूसरे के संपर्क में आते हैं। हालांकि, ऐसे मामले बहुत कम देखने को मिलते हैं।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के अनुसार पके हुए चिकन या अंडे से बर्ड फ्लू का खतरा नहीं होता है। अभी तक किसी भी व्यक्ति में अच्छे से पके हुए चिकन को खाने से बर्ड फ्लू होने का कोई प्रमाण नहीं मिला है।

इंसानों में बर्ड फ्लू और एच5एन1 के लक्षण दूसरे सीजनल फ्लू की तरह ही होते हैं। इसके लक्षण हैं बुखार, गला सुखना, बदन दर्द, सिर दर्द, थकान, बहती नाक आदि। ये फ्लू सबसे पहले सांस लेने की नली और श्वास व्यवस्था को नुकसान पहुंचाता है।

यह भी पढ़ें- किसान आंदोलन के कारण फैल रहा है बर्ड फ्लूः बीजेपी नेता मदन दिलावर

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.