फोटो सोर्सः ट्विटर

चीन की कम्युनिस्ट सरकार के निशाने पर थे अरबपति जैक मा, पिछले 2 महीने से हैं लापता

BY – FIRE TIMES TEAM

चीन की कम्युनिस्ट सरकार अपने खिलाफ उठने वाले हर उस सवाल को दबा देना चाहती है। चाहे वह उईगर मुसलमान हों, छात्र हों, पत्रकार हों, डॉक्टर हों, सामाजिक कार्यकर्ता हों या फिर कोई अरबपति ही क्यों न हो।

दरअसल, चीन के तीसरे सबसे बड़े अरबपति और अलीबाबा समूह के मालिक जैक मा पिछले दो महीने से लापता हैं। चीन में तकनीक की दुनिया पर राज करने वाले जैक मा चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग के साथ विवाद के बाद पिछले दो महीने से नहीं देखे गए हैं।

जैक मा चीन में अक्सर सार्वजनिक कार्यक्रमों में बतौर वक्ता मौजूद रहते हैं और अपने मोटिवेशनल भाषणों के लिए भी युवाओं में काफी लोकप्रिय हैं।

उन्होंने पिछले साल अक्तूबर में शंघाई में एक कार्यक्रम के दौरान चीन के ब्याजखोर वित्तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की तीखी आलोचना की थी।

जैक मा ने सरकार से आह्वान किया था कि सिस्टम में बदलाव किया जाना चाहिए ताकि बिजनेस में नई चीजें शुरू करने के प्रयासों को दबाया नहीं जाए। उन्होंने वैश्विक बैंकिंग नियमों को बुजुर्गों लोगों का क्लब करार दिया था।

इस भाषण के बाद चीन की सत्‍तारूढ़ कम्‍युनिस्‍ट पार्टी भड़क उठी। जैक मा की आलोचना को कम्‍युनिस्‍ट पार्टी पर हमले के रूप में लिया गया। इसके बाद जैक मा के दुर्दिन शुरू हो गए और उनके बिजनस के खिलाफ असाधारण प्रतिबंध लगाया जाना शुरू कर दिया गया।

नवंबर महीने में चीनी अधिकारियों ने जैक मा को जोरदार झटका द‍िया और उनके एंट ग्रुप के 37 अरब डॉलर के आईपीओ को निलंबित कर दिया।

वॉल स्‍ट्रीट जनरल की रिपोर्ट के मुताबिक जैक मा के एंट ग्रुप के आईपीओ को रद करने का आदेश सीधा चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग की ओर से आया था।

इसके बाद जैक मा से क्रिसमस की पूर्व संध्‍या पर कहा गया कि वह तब तक चीन से बाहर न जाएं जब तक कि उनके अलीबाबा ग्रुप के खिलाफ चल रही जांच को पूरा नहीं कर लिया जाता है।

इसके बाद जैक मा अपने टीवी शो ‘अफ्रीका बिजनस हीरोज’ से नवंबर में फाइनल से ठीक पहले रहस्‍यमय तरीके से लापता हो गए। यही नहीं शो से उनकी तस्‍वीर को भी हटा दिया गया।

जैक मा के इस तरह गायब होने के बाद कई तरह के संदेह भी जाहिर किए जा रहे हैं।

हालांकि इस शो के फाइनल से कई सप्‍ताह पहले ही जैक मा ने ट्वीट करके कहा था कि वह सभी प्रतिभागियों से मुलाकात की प्रतीक्षा नहीं कर सकते हैं। इसके बाद से उनके तीन ट्विटर अकाउंट से कोई पोस्‍ट नहीं किया गया है।

चीन में आवाज को दबाए जाने वाले जैक मा पहले ऐसे शख्‍स नहीं हैं। चीन बड़ी संख्‍या में अपने देश में ऐसे लोगों को नजरबंद कर चुका है जो कम्‍युनिस्‍ट पार्टी या शी जिनपिंग सरकार की नीतियों की आलोचना करते हैं।

इससे पहले शी जिनपिंग की आलोचना करने वाले प्रॉपर्टी बिजनसमैन रेन झिकियांग लापता हो गए थे। उन्‍होंने कोरोना को सही से निपटने के लिए शी जिनपिंग को ‘मसखरा’ बताया था।

बाद में उन्‍हें 18 साल के लिए जेल भेज दिया गया। चीन के एक अन्‍य अरबपति शिआन जिआनहुआ वर्ष 2017 से नजरबंद हैं।

 

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.