भाषणजीवी प्रधानमंत्री को आंदोलन में जाने वाला परजीवी नज़र आता है: रवीश कुमार

 BY- FIRE TIMES TEAM

पिछले कई हफ्तों से किसान नए कृषि बिल के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। इसमें कई किसानों की जान तक जा चुकी है। अब तक सरकार का रुख कुछ खास बदलता नजर नहीं आया है।

राज्य सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि विपक्ष नए कृषि कानूनों की खामी नहीं बता पा रहा है। उन्होंने इस दौरान न्यूनतम समर्थन मूल्य का भी जिक्र किया। प्रधानमंत्री के भाषण के बाद सोशल मीडिया पर जमकर आलोचना भी हुई।

वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार ने प्रधानमंत्री के इस भाषण के बाद सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखी है। उन्होंने लिखा है-

राज्य सभा में प्रधानमंत्री का दिया भाषण ख़राब तो है ही उससे कहीं ज़्यादा चिन्ताजनक है। प्रधानमंत्री ने भाषण को संयमित स्वर में पेश कर विद्वता का आभा प्रदान करने की कोशिश की लेकिन जो विचार झलके हैं वो बेहद ख़तरनाक हैं।

अगर देश के प्रधानमंत्री को आंदोलनों में जाने वाला परजीवी नज़र आता है तो यह संकेत है कि वो खुद उन आशंकाओं को मान्यता दे रहे हैं जो उनकी शासन व्यवस्था को लेकर उठती रही हैं। गोदी मीडिया ने किसानों को आतंकवादी कह कर जनता से अलग कर दिया।

जो थोड़ी बहुत जनता किसानों के साथ खड़ी थी उसे आंदोलनजीवी परजीवी कह कर किसानों से अलग किया जा रहा है। कमाल है किसानों के साथ खड़ा होना इतना मुश्किल है कि आपको देश के प्रधानमंत्री परजीवी कहेंगे।

एक आदमी अलग अलग आंदोलनों में जाता है। उसे सपोर्ट करता है। क्या वह आंदोलनजीवी परजीवी होता है? जो जनता प्रधानमंत्री को इतना वोट देती है उसी से चिढ़ने की वजह समझ नहीं आती।

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.