अयोध्या: सार्वजनिक सुविधाओं के उद्घाटन के लिए मस्जिद ट्रस्ट योगी आदित्यनाथ को देगा निमंत्रण

BY- FIRE TIMES TEAM

अयोध्या में वैकल्पिक मस्जिद के निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गठित ट्रस्ट ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को संरचना के परिसर में अस्पताल, स्कूल, सामुदायिक रसोई, पुस्तकालय और अन्य जनोपयोगी सुविधाओं के उद्घाटन के लिए आमंत्रित किया है।

निमंत्रण आने के दो दिन पहले आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या में मस्जिद उद्घाटन के लिए न तो उन्हें आमंत्रण मिलेगा और न ही वे वहां जाएंगे।

7 अगस्त को, आदित्यनाथ ने कहा था कि वह अयोध्या में मस्जिद के उद्घाटन में शामिल नहीं होंगे, भले ही उन्हें आमंत्रित किया जाए, क्योंकि वे एक हिंदू हैं। हालांकि, उन्होंने कहा कि कोई भी उन्हें आमंत्रित नहीं करेगा।

उन्होंने दावा किया, “जिस दिन वे मुझे आमंत्रित करेंगे, तब बहुत सारे लोगों की धर्मनिरपेक्षता खतरे में पड़ जाएगी।”

मुख्यमंत्री ने कहा, वह काम करना जारी रखेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ सभी तक पहुंचे।

हालांकि, इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन नामक ट्रस्ट ने कहा कि मस्जिद के लिए कोई शिलान्यास समारोह नहीं होगा।

फाउंडेशन के सचिव अतहर हुसैन ने बताया, “(सुन्नी) इस्लाम – हनफी, हनबली, शफी और मलिकी में विचार के चार स्कूलों में एक मस्जिद के लिए आधारशिला रखने का कोई प्रावधान नहीं है।”

मस्जिद अयोध्या में धनीपुर गांव में एक भूमि पर बनाई जाएगी।

हुसैन ने कहा, “ये (अस्पताल, स्कूल आदि) सार्वजनिक उपयोगिता परियोजनाएं हैं और हम इन इमारतों की नींव रखने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आमंत्रित करेंगे।”

हुसैन ने कहा कि मस्जिद का नाम अभी तय नहीं किया गया है, लेकिन इसे ध्वस्त ढांचे के विपरीत, मुगल सम्राट बाबर के नाम पर नहीं रखा जाएगा।

हुसैन ने कहा, “अल्लाह के लिए, नमाज़ महत्वपूर्ण है, मस्जिद का नाम नहीं।”

बीते 5 अगस्त को प्रधानमंत्री ने अयोध्या में राम मंदिर भूमि पूजन में शामिल हुए थे। उनके अलावा मुख्य अतिथि में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी थे।

यह भी पढ़ें- अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए ट्रस्ट का हुआ गठन, बाबरी मस्जिद से 25 किलोमीटर दूर बनेगी नई मस्जिद

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.