यूपीः हाथरस और बलरामपुर के बाद अब भदोही में दुष्कर्म का विरोध करने पर किशोरी की पीटकर हत्या

BY – FIRE TIMES TEAM

उत्तर प्रदेश में एक के बाद एक बलात्कार की जघन्य घटनाएं सामने आ रही हैं। एक तरफ हाथरस में युवती के साथ सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में हाथरस पुलिस की कारस्तानी सबके सामने है। इस मामले ने देशभर के लोगों को झकझोर कर रख दिया है। इसके बाद ऐसी ही एक घटना बलरामपुर में भी घटित हुई, जहां एक स्नातक की छात्रा की सामूहिक दुष्कर्म के बाद मौत हो गई।

यह भी पढ़ेंः यूपी: प्रदेश में नहीं रुक रहीं बलात्कार की घटनाएं, बलरामपुर में दलित किशोरी के साथ सामूहिक बलात्कार, हुई मौत

और आज फिर उत्तर प्रदेश के भदोही जिले के औराई थाना क्षेत्र में एक किशोरी(14) से दुष्कर्म की कोशिश की गई। वहीं, जब किशोरी ने इसका विरोध किया तो आरोपियों ने उसका सिर कूंचकर मार डाला।

दरअसल, यह घटना गुरूवार को दोपहर दो बजे की है। 14 वर्षीय किशोरी दोपहर में शौच के लिए  खेत की तरफ निकली थी, जहां आरोपियों ने उसे खींच लिया। जब किशोरी काफी देर तक (करीब 45-50 मिनट) घर नहीं पहुंची तो परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की तो वह सड़क के आगे सिवान में बाजरे के खेत में लहूलुहान हालत में मिली।

आपको बता दें कि अनुसूचित जाति की किशोरी(14) गांव के परिषदीय विद्यालय में पढ़ती थी। परिवार के लोगों को जब वह खेत में मिली तो उसके सिर और शरीर पर चोट के निशान थे। कपड़े बिखरे हुए थे, और उस खेत को देखकर यह अंदाजा लगाया जा सकता था कि मासूम को दरिंदों ने हैवानियत के लिए खेत में किस तरह घसीटा था।

इसकी सूचना मिलने के बाद मामले की जांच पुलिस ने शुरू कर दी है। जब परिजन किशोरी के पास पहुंचे तब तक आरोपी घटना को अंजाम देकर फरार हो चुके थे। जानकारी मिलते ही पुलिस कप्तान रामबदन सिंह और फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंच गई।

थोड़ी देर में विंध्यांचल के आईजी पीयूष श्रीवास्तव भी गांव पहुंचे। पुलिस अधीक्षक के मुताबिक, बलात्कार की कोशिश में युवती के सिर में चोट की वजह से संभवतः उसकी मौत हुई है। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया। जांच के बाद ही मौत की वजह पता चलेगी।

यह भी पढ़ेंः यूपीः क्या दलित होने की सजा है? जिसे हाथरस में युवती को सामूहिक बलात्कार और जान देकर चुकानी पड़ी

मौके पर भारी भीड़ उमड़ पड़ी, तो पुलिस ने आरोपितों की जानकारी के लिए आसपास के लोगों से पूछताछ भी की। लेकिन शाम तक आरोपियों का कोई सुराग नहीं मिल सका था।

यह भी पढ़ेंः भारत में दलित और आदिवासी लड़कियों के लिए कोई जगह नहीं है, यूपी का माहौल सबसे खराब: NCRB डेटा

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.