लॉक डाउन के दौरान एफसीआई के गोदामों में 1,550 टन खाद्यान्न बर्बाद हुआ: सरकारी डेटा

BY- FIRE TIMES TEAM

अप्रैल और मई में लागू हुए लॉक डाउन के दौरान बहुत से प्रवासी मजदूरों की मौत खाना ना मिलने और भुखमरी के कारण हुई थी और अब सरकारी डेटा के अनुसार पता चला है कि उसी अवधि में भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के गोदामों में 1,550 टन से अधिक अनाज सड़ गया था।

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, मई में लगभग 26 टन खाद्यान्न की क्षति देखी गई, जबकि जून में 1453 टन से अधिक की क्षति दर्ज की गई। जुलाई और अगस्त में क्रमशः 41 और 51 टन की बर्बादी दर्ज की गई।

आंकड़ों के अनुसार, मार्च और अप्रैल के दौरान खाद्यान्नों की शून्य क्षति दर्ज की गई थी।

अप्रैल-जून के बीच आंकड़ों की तुलना में, इस वर्ष के दौरान एफसीआई में खाद्यान्न की क्षति बहुत अधिक है।

पिछले वर्ष अप्रैल-जून के दौरान एफसीआई गोदाम में खाद्यान्न की क्षति लगभग 100 टन थी जबकि इस वर्ष अप्रैल-जून के दौरान नुकसान लगभग 1500 टन है।

मंत्रालय के अनुसार, एफसीआई के पास उपलब्ध खाद्यान्न को आमतौर पर कवर किए गए गोदामों में वैज्ञानिक तरीके से संग्रहित किया जाता है, जिसमें फ्यूमिगेशन और कीटनाशकों का इस्तेमाल खाद्यान्न को संरक्षित करने के लिए किया जाता है।

सभी सावधानियों के बावजूद भी प्राकृतिक आपदाओं या पारगमन की वजह से छोटी मात्रा में खाद्यान्न खराब हो जाता है।

अधिकारियों ने यह भी कहा कि जब भी क्षतिग्रस्त खाद्यान्न की किसी भी मात्रा पर ध्यान दिया जाता है, तो प्रत्येक मामले की तुरंत जांच की जाती है और संबंधित अधिकारी / अधिकारियों द्वारा जिम्मेदार पाए गए अधिकारियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जाती है।

खाद्यान्न को हुए नुकसान के लिए 2014-2018 के बीच लगभग 125 अधिकारियों को जिम्मेदार पाया गया है और तदनुसार उनके खिलाफ उचित कार्रवाई भी की गई है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्ना योजना फेज-वन के तहत तीन महीने की अवधि के लिए (अप्रैल से जून 2020), सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य लाभार्थियों को अतिरिक्त निशुल्क वितरण के लिए सभी राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों को लगभग 2 लाख मिलियन टन खाद्यान्न आवंटित किया था।

यह भी पढ़ें- अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठनों ने सयुंक्त राष्ट्र को पत्र लिखकर पीएम मोदी से सीएम योगी को बर्खास्त करने की मांग की

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.