उन्नाव में होली के दिन हुई 10 साल के बच्चे से दरिंदगी, हत्या कर तालाब में फेंका

उत्तर प्रदेश का उन्नाव जिला कई सालों से खौफनाक वारदातों के लिए चर्चा में बना ही रहता है। अभी दो बच्चियों की मौत का मामला बीते कुछ ही दिन हुए थे कि अब इस तरह की एक और खबर आई है।

उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र के डंडनापुर मजरे पिपरी गांव में मंगलवार सुबह 10 साल के बच्चे की कुकर्म के बाद हत्याकर शव तालाब में फेंक दिया गया। शव मिलने पर हड़कंप मच गया।

जानकारी होने पर एसपी आनंद कुलकर्णी और सीओ ने मौका मुआयना किया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक कुकर्म के बाद चेस्ट पर वजनदार वस्तु से वार करने से मौत होने की पुष्टि हुई है। बच्चे के बाबा की शिकायत पर गांव के पांच लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज की गई है।

उसके परिजनों ने बताया कि क्षेत्र के गांव में सोमवार शाम होलिका दहन स्थल पर लगे डीजे पर गांव के बच्चे नाच रहे थे। सोमवार देर रात वह गांव निवासी एक व्यक्ति के दरवाजे बज रहे डीजे पर अपने बड़े भाई के साथ गया था।

यह भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश : क्या मिशन शक्ति एक ढोंग है?

रात में उसका बड़ा भाई लौट आया, लेकिन वह नहीं लौटा। मंगलवार सुबह उसका शव गांव के बाहर तालाब में मिलने की सूचना मिली।

परिजनों ने सोचा कि चाचा के घर पर सो गया होगा। मंगलवार सुबह आसपास के लोगों ने संदिग्ध हालात में तालाब के पास उसका औंधे मुंह शव पड़ा देखा तो परिजन व पुलिस को सूचना दी।

आशंका जताई गई कि कुकर्म के बाद उसकी हत्या कर दी गई है। शव का पोस्टमार्टम हसनगंज सीएचसी के डॉ. मोहम्मद जावेद सिद्दीकी व मियांगंज सीएचसी के डॉ. आफताब अहमद के पैनल से कराया गया।

रिपोर्ट में कुकर्म के बाद चेस्ट चोटिल होने से मौत की बात सामने आई। बच्चे के बाबा की तहरीर पर पुलिस ने मटरू, दीपू, सागर, प्रमोद और सल्लावा के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।

अभियुक्तों की तलाश की जा रही है। एएसपी ने जल्द घटना के खुलासे की बात कही है। मौके पर पहुंचे एसपी आनंद कुलकर्णी ने फील्ड यूनिट व डॉग स्क्वाड को बुलाकर जांच कराई और थाना पुलिस को जल्द घटना के राजफाश के निर्देश दिए।

यह भी पढ़ेंः उत्तर प्रदेश में क्यों न अब अपराध का नाम बदल दिया जाए?

About Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.